जेईई में चार तरीकों से तय की जाएगी रैंकिंग

  • जेईई में चार तरीकों से तय की जाएगी रैंकिंग
You Are HereNational
Friday, December 13, 2013-8:57 PM

नई दिल्ली: जेईई (जॉइन्ट एन्ट्रेंस एक्जामिनेशन) मेन में बराबर माक्र्स लाने वाले कैंडिडेट की रैंकिंग चार तरीके से तय की जाएगी। जेईई-2014 में रैंक के लिए 12वीं और जेईई मेन एग्जाम के नंबर जोड़े जाएंगे।

ऐसी स्थिति में बराबर माक्र्स लाने वाले कैंडिडेट की संख्या को देखते हुए सीबीएसई ने कहा है कि चार तरीके से ऐसे कैंडिडेट को रैंक एलॉट किया जाएगा। 12वीं मार्क का 40 फीसदी वेटेज और जेईई मेन का 60 फीसदी वेटेज जोडऩे पर जिन कैंडिडेट को बराबर माक्र्स आएंगे उनका सबसे पहले मैथेमैटिक्स का माक्र्स देखा जाएगा।

जेईई मेन के मैथेमैटिक्स सेक्शन में अधिक माक्र्स हासिल करने वाले कैंडिडेट को एक रैंक अधिक मिलेगा। जबकि इसके बाद भी बराबर माक्र्स रहने पर फिजिक्स के नंबर देखे जाएंगे। हालांकि कई बार कैंडिडेट को एक ही रैंक से सीट नहीं मिल पाती है इसलिए सीबीएसई ने स्पष्ट नियम बनाए हैं।

इसके अलावा दो अन्य क्राइटेरिया बनाए गएं हैं। 12वीं का माक्र्स और पोजिटिव-निगेटिव माक्र्स का अनुपात भी कैंडिडेट का रैंक तय करेगा। हालांकि बोर्ड ने कहा है कि इसके बावजूद बराबर नंबर रहने पर सभी कैंडिडेट को एक ही रैंक मिलेगा।

उधर, जेईई-2014 के लिए सीबीएसई ने यह भी व्यवस्था की है कि एक हजार रुपए प्रति प्रश्न के हिसाब से फीस चुका कर छात्र अपने उत्तर को चैलेंज भी कर सकेंगे। जेईई के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरे जा रहे हैं और छात्रों को 26 दिसबंर तक मौका दिया जाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You