सेमीफाइनल में हार के बाद राहुल बोले, बंद दरवाजे की राजनीति से बाहर आना होगा

  • सेमीफाइनल में हार के बाद राहुल बोले, बंद दरवाजे की राजनीति से बाहर आना होगा
You Are HereNational
Saturday, December 14, 2013-9:28 AM

नई दिल्ली: पिछले आम चुनावों से हटकर जनता से सलाह मशविरा कर अपना 2014 का चुनाव घोषणा पत्र तैयार कर रही कांग्रेस इस बार इसमें राष्ट्रीय मुद्दों के साथ राज्य स्तरीय महत्वपूर्ण मुद्दे भी शामिल करेगी। कांग्रेस अपने घोषणा पत्र के लिए वेबसाइट के माध्यम से लोगों के सुझाव लेने के साथ-साथ जन विचार सभाएं भी कर रही है। विधानसभा चुनावों में अप्रत्याशित हार के बाद अनुसूचित जाति-जनजाति तथा अन्य पिछड़े वर्गों के सशक्तिकरण के लिए सुझाव देने के लिए यहां आयोजित सभा में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि घोषणा पत्र सिर्फ चुनावी दस्तावेज नहीं बल्कि सरकार बनने पर शासन चलाने का एजेंडा रहेगा।

इस जनसभा में देश भर से विभिन्न संगठनों के 235 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। रक्षा मंत्री एके एंटनी, जयराम रमेश, मुकुल वासनिक आदि की मौजूदगी में राहुल ने इन नेताओं से चर्चा की। उन्होंने कहा कि अभी तक बंद दरवाजों के अंदर राजनीति की जा रही थी। गिने चुने लोग सरकार की नीतियां और घोषणा पत्र तैयार करते थे। इस प्रणाली को अब खत्म करना होगा। गांधी ने कहा कि घोषणापत्र तैयार करने के लिए जनता से विचार विमर्श की प्रक्रिया सिर्फ एक शुरुआत है। आगे वह नीतियां बनाने की प्रक्रिया तथा उम्मीदवारों को टिकट आवंटन के द्वारा राजनीतिक प्रतिनिधित्व की प्रक्रिया को भी खोलेंगे। उन्होंने कहा कि वंचितों के सशक्तिकरण का मुख्य उपाय शिक्षा तक उनकी पहुंच बनाना है और शिक्षा पाठयक्रम समावेशी होना चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You