मोदी का नेतृत्व भी भाजपा को गुटबाजी से नहीं बचा सका

  • मोदी का नेतृत्व भी भाजपा को गुटबाजी से नहीं बचा सका
You Are HereNational
Saturday, December 14, 2013-12:33 PM

रुड़की: भाजपा के पीए पद के उम्मीदवार और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की देहरादून में आयोजित होने वाली शंखनाद रैली में प्रदेश भाजपा नेतृत्व जहां एक ओर एकजुट दिखाई दे रहा है वहीं धरातल पर भाजपा की गुटबाजी चरम सीमा पर दिखाई दे रही है। जहां एक ओर मोदी के व्यक्तित्व को लेकर जनता भाजपा की ओर आस लगाए हुए है वहीं भाजपा में गुटबाजी का केन्द्र बने अनेक नेता अपने स्वार्थो की पूर्ति साधने से बाज नहीं आ रहे हैं। गत दिवस नरेंद्र मोदी की रैली को लेकर जनजागरण रथयात्रा ग्रामीण क्षेत्रो का दौरा करने के उपरांत जब रुड़की पहुंची उस समय भाजपा के एक ही गुट के नेता रथयात्रा का स्वागत करते दिखाई दिए। इसके बावजूद भी नगर भ्रमण के बाद रैली संयोजक प्रकाश पंत ने कहा कि उनका लक्ष्य रैली में दो लाख लोगों को एकत्र करना है।

नगर भाजपा अध्यक्ष के आवास पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए रैली संयोजक व पूर्व मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि चार राज्यों की जीत के बाद नरेंद्र मोदी का पहला उद्बोधन होगा। यह रैली उत्तराखंड के इतिहास की सबसे बड़ी रैली होगी। उन्होंने कहा कि मोदी के राष्ट्रभक्ति पूर्ण व्यक्तित्व के कारण हर वर्ग का व्यक्ति मोदी को सुनने के लिये देहरादून पहुंचेगा। रैली का उद्देश्य 2014 का चुनाव रखा गया है यहीं से लोकसभा चुनाव का शंखनाद होगा क्योंकि देश की जनता कांग्रेस के कुशासन से मुक्ति चाहती है। उन्होंनें कहा कि कांग्रेस के दस वर्ष के कार्यकाल में जनता को बेरोजगारी व मंहगाई ही मिली है जबकि मोदी की गुजरात सरकार भ्रष्टाचारमुक्त व शुचिता के राजनीति के लक्ष्य का मॉडल है। प्रदेश की बहुगुणा सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि आपदा के लिये आये पैसे का दुरूपयोग कर सरकार ने अमानत में खयानत की है और भ्रष्टाचार की सीमाए तोड़ दी हैं।

उन्होने जानकारी दी कि आज हरिद्वार जिले की कलियर विधानसभा से जनजागरण की शुरूआत की जाएगी जबकि कल संसदीय क्षेत्र की अन्तिम विधानसभा क्षेत्र में लोगों को रैली में तलने के लिए जागरूक किया जाएगा। जनजागरण यात्रा में साथ चल रहे पूर्व मुख्यमंत्री डा$ रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि पूरे देश ने मोदी को प्रधानमंत्री मान लिया है और अब केवल निर्वाचन की औपचारिकता बाकी है। उन्होने सरकार के लिये संवैधानिक संकट बताते हुए कहा कि संवैधानिक पद पर बैठे विधानसभा स्पीकर, उपाध्यक्ष, सरकार में शामिल पीडीएफ के मंत्री, खुद उनके विधायक मान चुके हैं कि सरकार के मंत्री अधिकारी भ्रष्ट हैं, तो बहुगुणा द्वारा इस्तीफा न दिया जाना निल्र्लजता नही तो और क्या है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार विधानसभा चुनावों में जनता ने जवाब दिया है लोकसभा में भी कांग्रेस को जनता अच्छा जवाब देगी
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You