कांग्रेस को नए दल का समर्थन नहीं करना चाहिए : तिवारी

  • कांग्रेस को नए दल का समर्थन नहीं करना चाहिए : तिवारी
You Are HereNational
Saturday, December 14, 2013-8:26 PM

नई दिल्ली: कांग्रेस द्वारा दिल्ली में आप को बिना शर्त समर्थन दिए जाने के एक दिन बाद केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने पार्टी के इस रूख से आज असहमति जताई और कहा कि उसे नए दल को बिल्कुल ही समर्थन नहीं करना चाहिए था। तिवारी ने कहा, ‘‘ मैं नहीं समझता कि हमें ऐसा करना चाहिए था, हमने 15 साल शासन किया, अच्छा या बुरा लोगों ने हमें खारिज कर दिया। हमें विनम्रतापूर्वक इस फैसले को स्वीकार करना चाहिए।’’ इसके साथ उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस के लिएआत्मविश्लेषण का समय है।

तिवारी ने हालांकि जोर देते हुए कहा कि यह उनकी निजी राय है और वह पार्टी की और से नहीं बोल रहे हैं। एनडीटीवी चैनल पर एक परिचर्चा में तिवारी ने कहा कि दिल्ली में भाजपा और आप दो सबसे बड़ी पार्टियों के रूप में उभर कर सामने आईं हैं और सरकार बनाने के तरीकों का पता उन्हें लगाना है। उन्होंने कहा कि चुनाव वित्तपोषण सुधारों का समय आ गया है ताकि राजनीतिक दलों को मिलने वाले एक-एक रूपए का लेखा हो सके।

तिवारी ने कहा, ‘‘हम (पार्टियां) मौजूदा कानून का पालन करते हैं। हां, कानून में खामी है।’’ वरिष्ठ वकील और आप नेता प्रशांत भूषण ने आरोप लगाया कि बड़ी राष्ट्रीय पार्टियां अपनी आय के बारे में गोपनीयता बरतती हैं। उन्होंने दावा किया कि बड़ी पार्टियां निजी कंपनियों से अवैध चंदा लेती हैं और अपने शासन वाले प्रदेशों में उन्हें ठेके देती हैं। भाजपा के उषाध्यक्ष पीयूष गोयल ने कहा कि चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवार से लेकर सैंकड़ों स्थानीय इकाइयां पैसे जुटाती है और अंकेक्षण किया जाता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You