घुसपैठ का प्रयास: टुंडा और तीन अन्य के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल

  • घुसपैठ का प्रयास: टुंडा और तीन अन्य के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल
You Are HereNational
Sunday, December 15, 2013-10:51 AM

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने 1997 में आतंकी हमले के लिये पाकिस्तानी और बांग्लादेशी आतंकवादियों की भारत में घुसपैठ में कथित रूप से मदद करने के आरोप में लश्कर-ए-तय्यबा के बम विशेषज्ञ अब्दुल करीम टुंडा और तीन अन्य के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया है। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश दया प्रकाश की अदालत में दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने यह आरोप पत्र दाखिल किया। आरोप पत्र में टुंडा, उसके श्वसुर मोहम्मद जकारिया और उनके दो सहयोगियों अलाउद्दीन और बशीरूद्दीन को आरोपी बनाया गया है।  इन सभी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 121 (देश के खिलाफ युद्ध छेडऩे), धारा 121-ए (शासन के खिलाफ चुनिन्दा अपराध करने की साजिश रचने) और विस्फोटक पदार्थ कानून, विदेशी नागरिक कानून और सशस्त्र कानून के तहत आरोप लगाये गये हैं।

 पुलिस के अनुसार अलाउद्दीन और बशीरूद्दीन प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तय्यबा में शामिल होने से पहले 1994 में जकारिया के माध्यम से टुंडा से मिले थे। पुलिस का दावा है कि टुंडा के निर्देश पर ही तीनों आरोपियों ने 1997 में आतंकी वारदात के लिये भारत में घुसपैठ करने में पाकिस्तानी और बांग्लादेशी नागरिकों की कथित रूप से मदद की थी।  पुलिस के अनुसार 1998 में भारत में तमाम बम विस्फोट की घटनाओं के सिलसिले में 1998 में कई पाकिस्तानी नागरिक और दूसरे व्यक्ति गिरफ्तार किये गये थे। भारत ने मुंंबई के 26-11 के हमले के बाद पाकिस्तानी सरकार से 72 वर्षीय टुंडा सहित 20 आतंकवादियों को उसे सौंपने की मांग की थी। टुंडा इस समय तमाम आतंकवादी मामलों के सिलसिले में न्यायिक हिरासत में है। टुंडा को भारत-नेपाल सीमा पर बनबासा से 16 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था। संदेह है कि टुंडा देश में बम विस्फोट की 40 वारदातों में शामिल था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You