महिलाओं के प्रति रवैये में बदलाव की जरूरत: जेटली

  • महिलाओं के प्रति रवैये में बदलाव की जरूरत: जेटली
You Are HereNational
Wednesday, December 18, 2013-5:10 PM

नई दिल्ली: समाज में महिलाओं के प्रति रवैये में बदलाव लाने की आवश्यकता महसूस करते हुए राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने कहा है कि समाज में महिलाओं को पुरुषों के बराबर अधिकार मिलना चाहिए और ये एक बडा अभियान है। जेटली ने आनर अवर वीमन (हाउ) फाउण्डेशन द्वारा दिल्ली में पिछले साल 16 दिसंबर को हुई गैंगरेप की घटना की पीडिता को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘अब समय आ गया है कि समाज महिलाओं के प्रति अपने रवैये में परिवर्तन लाए।

 

समाज में महिलाओं को पुरूषों के बराबर अधिकार देना एक बडा अभियान है।’’ उन्होंने एक साल पहले हुए निर्भया कांड को याद करते हुए कहा कि उस समय लोगों में इस कदर गुस्सा था कि बिना नेतृत्व के लाखों युवा सडकों पर उतरे और अपना गुस्सा जाहिर किया। भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष अनुराग सिंह ठाकुर ने देशवासियों से नजरिया बदलने और जागरूकता पर बल देते हुए कहा कि निर्भया कांड के साल भर बाद भी आज महिलाएं खुद को सुरक्षित नहीं महसूस करतीं। इस तरह की घटनाओं को रोकने में नाकाम रहने का आरोप लगाते हुए मांग की कि सरकार अपनी शासन प्रक्रिया में बदलाव लाकर ऐसी घटनाओं को रोकने में प्रभावी भूमिका निभाए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You