योजना आयोग का पुनर्गठन किया जाना चाहिये : यशवंत सिन्हा

  • योजना आयोग का पुनर्गठन किया जाना चाहिये : यशवंत सिन्हा
You Are HereNational
Thursday, December 19, 2013-10:24 PM

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने योजना आयोग के पुनर्गठन का सुझाव देते हुये कहा कि आयोग को केवल भावी योजना तैयार करने और उसके क्रियान्वयन पर ध्यान देना चाहिये। राज्यों के वित्तीय मामलों और कामकाज में आयोग का हस्तक्षेप नहीं होना चाहिये। सिन्हा ने कहा कि राज्यों के वित्तपोषण और कामकाज की बारीकी से देखरेख उसे नहीं करनी चाहिये यह काम वित्त मंत्रालय का है। उन्होंने कहा कि देश के संघीय ढांचे के रास्ते में योजना आयोग सबसे बड़ी रकावट है। ‘‘आयोग को राज्यों के वित्त प्रबंधन पर बारीक निगाह रखने का अधिकार दिये बिना उसे केवल भावी योजना और उसके क्रियान्वयन का काम दिया जाना चाहिये।’’
  
सिन्हा कल शाम यहां कट्स के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि योजना आयोग का गठन एक सरकारी आदेश के जरिये किया गया। तब से यह बिना किसी संवैधानिक व्यवस्था के लगातार काम कर रहा है और आज राज्यों को धन के बंटवारे में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

उन्होंने कहा कि आने वाले समय में सहकारी संघवाद ही एकमात्र रास्ता है। उन्होंने कहा कि भारत को नीति निर्माण में अब सहकारी संघवाद की आवश्यकता है। आने वाले समय में केन्द्र और राज्य सरकारों के बीच व्यापक सहयोग की जरूरत होगी। राज्यसभा सांसद एन.के. सिंह ने कहा कि समय के साथ देश में राज्यों और केन्द्र सरकार के बीच बेहतर तालमेल के लिये कोई विश्वस्त और व्यावहारिक प्रणाली विकसित नहीं हो पाई है। अंतरराज्यीय परिषद बेकार पड़ी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You