व्यापम घोटाला देश के दूसरा बड़ा घोटाला: उमा

  • व्यापम घोटाला देश के दूसरा बड़ा घोटाला: उमा
You Are HereNational
Friday, December 20, 2013-4:44 PM

भोपाल: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उपाध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने प्रवेश और प्रतियोगी परीक्षाएं आयोजित करने वाले व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापम) से जुड़े घोटाले की तुलना आज बिहार के चारा घोटाले से करते हुए इसकी जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग की। उन्होंने दोहराया कि व्यापम घोटाला चारा घोटाला के बाद भारत का दूसरा बड़ा घोटाला है जिसने लाखों जिंदगियों को प्रभावित किया, इसलिए उन्होंने सीबीआई जांच की बात कही है। भारती ने यहां अपने निवास पर पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहा कि व्यापम घोटाले की जडें बहुत व्यापक हैं। इसके ठीक पहले राज्य के पुलिस महानिदेशक नंदन दुबे ने उनसे मुलाकात की।

 दुबे के रवाना होने के बाद भारती ने पत्रकारों को बताया कि पुलिस महानिदेशक ने उनसे कहा है कि घोटाले से जुड़ी प्राथमिकी में उनका नाम नहीं है और न ही उनके खिलाफ जांच की जा रही है। उनका नाम रिफरेंस के तौर पर आया है लेकिन उनके खिलाफ कोई प्रमाण नहीं है। भारती ने कहा कि व्यापम घोटाले में भी राजनैतिक व्यक्ति शामिल हैं और यह बहुत व्यापक घोटाला है। इसलिए ही उन्होंने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की थी और इस संबंध में वह राज्य सरकार को शीघ्र ही लिख भी सकती है।

उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच कर रहे पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) के वरिष्ठ अधिकारी ईमानदार हैं लेकिन अन्य अधिकारी राज्य सरकार के अधीन हैं तो वह कैसे बड़े लोगों के खिलाफ पूरी निष्पक्षता के साथ जांच कर सकते हैं। भारती ने कहा कि एसटीएफ की जांच में सैकडों नाम शामिल हैं, लेकिन जिस तरह से मीडिया के एक वर्ग में सिर्फ उनका नाम आया और सभी जगहों पर एक सी खबर दिखायी दी, इससे लगता है कि इसमें उनके खिलाफ कोई साजिश है। उन्होंने कहा कि कोई बीच की कड़ी है,  लेकिन उन्होंने इसका खुलासा नहीं किया। उन्होंने कहा कि डीजीपी ने आज उनसे कहा कि उनके खिलाफ प्राथमिकी नहीं है,  इसलिए उन्हें बयान देने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद वह डीजीपी को लिखित में बयान भेजेंगी और इसका लिखित में ही जवाब चाहेंगी।

भारती ने कहा कि एसटीएफ प्रतिष्ठित संस्था है लेकिन उसके अधीन अधिकारी कर्मचारी राज्य सरकार के अधीन है, इसलिए वह बड़े लोगों के खिलाफ निष्पक्ष जांच कैसे कर सकती है। उन्होंने कहा कि उन्होंने व्यापम के लिए फोन कभी नहीं किया। हालाकि वह गरीबों को न्याय दिलाने के लिए अक्सर फोन करती हैं।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You