वर्ष 2013 में दिल्ली की अदालतों में छाए रहे आतंकी मामले

  • वर्ष 2013 में दिल्ली की अदालतों में छाए रहे आतंकी मामले
You Are HereNational
Tuesday, December 24, 2013-12:26 PM

नई दिल्ली: वर्ष 2013 में दिल्ली की अदालतों में आतंकवाद के मास्टर माइंड यासीन भटकल और अब्दुल करीम टुंडा के खिलाफ कार्यवाही चर्चा में रही। अदालत ने बटला हाउस मुठभेड़ मामले में इंडियन मुजाहिद्दीन के संदिग्ध आतंकी को उम्रकैद देकर इस मामले को बंद कर दिया।  वर्ष 2008 में हुई बटला हाउस मुठभेड़ मामले में शहजाद अहमद को दोषी करार दिए जाने और सजा सुनाए जाने पर दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के चेहरों पर मुस्कान आई तो वहीं संदिग्ध हिज्बुल आतंकी लियाकत शाह से जुड़ा मामला एनआईए को सौंपे जाने और इसके बाद उसकी जमानत पर रिहाई के चलते उन्हें शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। लियाकत की गिरफ्तारी को दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ की बड़ी उपलब्धि बताने वाली बातें आधारहीन साबित हुईं क्योंकि जम्मू कश्मीर की पुलिस ने इस बात पर जोर दिया कि वह उन लोगों में से एक था जो 1990 के दशक में यहां से फरार हो गए थे और फिर राज्य की पुनर्वास नीति के तहत बाद में लौटकर भारत में आत्मसमर्पण किया था। यहां तक कि जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी स्पष्ट रूप से सामने आकर लियाकत की गिरफ्तारी पर दिल्ली पुलिस की आलोचना की थी। सभी पक्षों की ओर से दबाव के चलते गृहमंत्रालय ने यह मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी को स्थानांतरित कर दिया था।

जेल में दो माह बिताने के बाद अदालत ने 45 वर्षीय लियाकत को जमानत पर रिहा कर दिया था। अदालत ने कहा था कि एनआईए की जांच में इस बात की पुष्टि हो गई कि राजधानी में आतंकी हमलों के षडयंत्र में उसकी भागीदारी के कोई संकेत नहीं थे। लियाकत की भागीदारी का दावा दिल्ली पुलिस ने किया गया था। देशभर में 60 से ज्यादा आतंकी हमलों में वांछित और इंडियन मुजाहिद्दीन के सह संस्थापक भटकल (30) की गिरफ्तारी शायद जांच एजेंसियों की सबसे बड़ी उपलब्धि रही। इसके सिर पर 35 लाख रूपए का ईनाम था और इसे एनआईए ने इसके करीबी सहयोगी असदुल्लाह अख्तर के साथ भारत-नेपाल सीमा से 28 अगस्त को गिरफ्तार किया था। इसी तरह दो दशक तक गिरफ्तारी से बचे रहे लश्कर-ए-तैयबा के शीर्ष बम विशेषज्ञ टुंडा को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था। टुंडा उन 20 आतंकियों में से एक है, जिन्हें 26:11 हमलों के संबंध में भारत ने पाकिस्तान से सौंपने की मांग की थी। टुंडा पर देशभर में 40 बम विस्फोटों में शामिल होने का संदेह है। ‘डी’ शब्द उस समय फिर से ट्रायल कोर्ट में चर्चा का विषय बन गया, जब पुलिस ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में कथित संलिप्तता के चलते दाउद इब्राहिम और उसके सहयोगी छोटा शकील व अन्य के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया। इसी मामले में निलंबित क्रिकेटर एस श्रीसंत, अजीत चंदीला और अंकित चह्वाण को भी गिरफ्तार किया गया था।

भटकल और टुंडा की तरह, लश्कर आतंकी और 26/11 हमलों के साजिशकर्ताओं में से एक अबु जुंदल का मामला भी उस समय सुर्खियों में
आ गया, जब उसने दावा किया कि एनआईए और महाराष्ट्र पुलिस ने उससे जबरन कुछ दस्तावेजों और कोरे कागजों पर दस्तखत करवाए।
सैयद जेबिउद्दीन अंसारी के रूप में भी पहचाने जाने वाला जुंदल फिलहाल मुंबई की आर्थर रोड जेल में बंद है और उसपर देश में आतंकी हमलों की साजिश रचने के आरोप में दिल्ली की अदालत में मुकदमा चलाया जा रहा है। इस साल एनआईए की एक विशेष अदालत ने हिज्बुल मुजाहिद्दीन के प्रमुख सईद सलाहुद्दीन व नौ अन्य के खिलाफ आरोपपत्र पर संज्ञान लिया। इनमें से आठ लोगों पर पाकिस्तान से लगभग 80 करोड़ रूपए के फंड लेकर भारत में आतंकी हमले करने के आरोप साबित हो गए। अदालत ने कई अन्य सनसनीखेज आतंकी मामलों की भी सुनवाई की। इनमें वर्ष 2012 में इस्राइली राजनयिक पर हुए हमले का मामला भी था, जिसमें पत्रकार सईद मोहम्मद अहमद काजमी मुकदमे का सामना कर रहे हैं। 2013 में अदालत ने वसीम अकरम मलिक के खिलाफ भी सुनवाई शुरू की। मलिक को सितंबर 2011 में हुए दिल्ली उच्च न्यायालय विस्फोट के मामले में गिरफ्तार किया गया था। इस विस्फोट में 15 लोग मारे गए थे और 70 से ज्यादा घायल हो गए थे।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You