गांगुली मामला : लॉ इंटर्न उपयुक्त कदम उठाएगी

  • गांगुली मामला : लॉ इंटर्न उपयुक्त कदम उठाएगी
You Are HereNational
Tuesday, December 24, 2013-6:03 PM

नई दिल्ली: सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश ए.के.गांगुली पर यौन प्रताडऩा का आरोप लगाने वाली कानून की पूर्व प्रशिक्षु (लॉ इंटर्न) ने कहा है कि वह उपयुक्त समय पर उपयुक्त कदम उठाएगी। लीगली इंडिया वेबसाइट पर अपने ब्लॉग पर इंटर्न ने कहा, ‘‘मेरा अनुरोध है कि इसे मान लिया जाए कि मेरे पास उपयुक्त समय पर उपयुक्त कदम उठाने का विवेक है। मेरा कहना है कि मेरी स्वायत्तता का सम्मान किया जाए।’’

उसने अपनी वेबसाइट पर लिखा, ‘‘मैं कहना चाहूंगी कि कि मैंने पूरी जिम्मेदारी से मामले की गंभीरता को ध्यान में रखकर कार्य किया है। जो लोग अफवाहें उड़ा रहे हैं और मामले को राजनीतिक रूप दे रहे हैं, वे ऐसा पूर्वाग्रह के कारण कर रहे हैं। उनका उद्देश्य पूरे मामले को पीछे धकेलना और मुद्दे की जवाबदेही से भागना है।’’ कोलकाता स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ जुडिशियल साइंस (एनयूजेएस) से स्नातक छात्रा ने आरोप लगाया कि सर्वोच्च न्यायालय के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश ने दिसम्बर 2012 में इंटर्नशिप के दौरान उसके साथ यौन दुव्र्यवहार किया था।

पूर्व इंटर्न ने आरोपों से इंकार करने और इसे अपने दिए गए फैसलों का बदला बताने के लिए पूर्व न्यायाधीश गांगुली की भी आलोचना की। उसने अपने ब्लॉग पर लिखा कि इस घटना से उसे यह सीख मिली कि वह युवा कानून छात्रों को चेतावनी दे सके कि उनको पद की ऊंचाई को लेकर लोगों के नैतिक स्तर के बारे में भ्रम में नहीं होना चाहिए।

पूर्व प्रशिक्षु ने कहा कि उसके आरोपों को गलत बताने वाले केवल उसका ही नहीं सर्वोच्च न्यायालय का भी अपमान कर रहे हैं। वकील ने सबसे पहले छह नवंबर को जर्नल ऑफ इंडियन लॉ सोसायटी के ब्लॉग पर न्यायाधीश पर यौन प्रताडऩा का आरोप लगाया था। इसके बाद उसने लीगली इंडिया वेबसाइट पर भी एक साक्षात्कार में अपने आरोपों को दोहराया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You