सुरक्षा के बाद केजरीवाल का सरकारी बंगले से इनकार

  • सुरक्षा के बाद केजरीवाल का सरकारी बंगले से इनकार
You Are HereNational
Tuesday, December 24, 2013-8:13 PM

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री बनने जा रहे अरविंद केजरीवाल ने सुरक्षा घेरा लेने से मना करने के बाद अब सरकारी बंगले में भी रहने से इनकार कर दिया है। उन्होंने राजनीति में वीआईपी तामझाम समाप्त करने के अपने संकल्प की तर्ज पर ये फैसले लिए हैं। सूत्रों ने कहा कि मुख्यमंत्री बनने के बाद सरकारी बंगले में रहने के लिए किए गए अनुरोध को केजरीवाल पहले ही खारिज कर चुके हैं। वह मध्य दिल्ली में आईपी स्टेट में दिल्ली सचिवालय के आसपास किसी फ्लैट में शिफ्ट हो सकते हैं।

केजरीवाल की सरकार में मंत्री बनने वाले लोग भी उन्हें मिलने वाले सरकारी बंगलों में जाने से इनकार कर सकते हैं और वे भी संभवत: अपने नेता के कदमों पर चलते हुए सरकारी फ्लैटों में रहना पसंद करेंगे। दिल्ली सरकार के मंत्रियों को टाइप छह या टाइप सात के बंगले मिलते हैं जिनमें तीन कमरे होते हैं।

शीला दीक्षित साल 2003 से लुटियन दिल्ली में 3, मोतीलाल नेहरू मार्ग स्थित टाइप आठ के बंगले में रह रहीं हैं। केजरीवाल पहले ही लाल बत्ती वाली कारों से चलने जैसे अनेक वीआईपी तामझाम को समाप्त करने की बात कह चुके हैं। आप के संयोजक ने कल दिल्ली पुलिस द्वारा दिया गया सुरक्षा घेरा लेने से मना कर दिया था और कहा था कि ‘भगवान उनकी रक्षा करते हैं।’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You