ऐतिहासिक रामलीला मैदान बदलाव का है गवाह

  • ऐतिहासिक रामलीला मैदान बदलाव का है गवाह
You Are HereNational
Wednesday, December 25, 2013-5:08 PM

नई दिल्ली (अशोक शर्मा): अजमेरी गेट के समीप ऐतिहासिक रामलीला मैदान आजादी के बाद से आज तक कई सरकारों को बदलते देख चुका है। राजनीतिक दल की होने वाली हर बड़ी रैली आज भी इसी मैदान में आयोजित होती है।

आपातकाल के बाद जनता पार्टी की सबसे बड़ी रैली इसी मैदान में हुई थी, जिसमें कई लाख लोगों ने भाग लिया था। एक बार फिर 26 दिसम्बर को रामलीला मैदान आप की बदलती सियासत का गवाह बनने जा रहा है। यह पहला मौका होगा कि जब दिल्ली सरकार के मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के सभी सदस्य रामलीला मैदान में आयोजित समारोह में आम जनता के सामने शपथ लेंगे। इस कार्यक्रम को दिल्ली की सियासत में एक नया अंदाज माना जा रहा है।

इस मैदान में सबसे बड़ी रैली आपातकाल खत्म होने के बाद 1977 में हुई थी, जिसे मुख्य रूप से लोकनायक जयप्रकाश नारायण, अटल बिहारी वाजपेयी, बाबू जगजीवन राम, लालकृष्ण आडवानी, फारूख अब्दुल्ला और जामा मस्जिद के शाही इमाम सहित काफी नेताओं ने सम्बोधित किया था।

रैली का नजारा यह था कि मैदान में तिल रखने की जगह नहीं बची थी और हजारों लोगों ने मैदान में दायीं तरफ मकानों की छतों पर खड़े होकर उस क्रांतिकारी रैली में अपने नेताओं को सुना था। उस रैली के गवाह बने दिलशाद गार्डन निवासी व मजदूर नेता सतीश कटारा और मीठापुर गांव निवासी हरीश शर्मा का कहना है कि उस रैली में पांच लाख से अधिक लोगों ने भाग लिया था। उस रैली की तरह आज तक कोई रैली इस मैदान में नहीं हो सकी है।

इतिहास साक्षी है कि आजादी के बाद 1950 में जब मोहम्मद अली जिन्ना के करीबी लियाकत अली खान ने भारत को मुक्का दिखाया था, तो उसके विरोध में इसी रामलीला मैदान में सभा आयोजित की गई थी। सभा को तत्कालीन प्रधानसमंत्री प. जवाहरलाल नेहरू ने सम्बोधित किया था, जिसमें करीब दो लाख दिल्ली वालों ने भाग लिया था। उसके बाद 1959 में जब महारानी ऐलिजाबेथ का भारत आगमन हुआ था तो इसी मैदान में उनका सार्वजनिक अभिनंदन किया गया था।

 उसके बाद 1964 में कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव खुश्चेव का निधन होने के बाद इसी मैदान में शोकसभा हुई थी, जिसमें दो लाख से अधिक लोगों ने शिरकत की थी। प. जवाहर लाल नेहरू का निधन होने के बाद लाल बहादुर शास्त्री को प्रधानमंत्री बनाया गया था। शास्त्री बातचीत के लिए जब मास्को रवाना हुए थे, तो इसी मैदान में बड़ी सभा हुई थी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You