सेना फिर से कर सकती है टाट्रा ट्रक की खरीदारी

  • सेना फिर से कर सकती है टाट्रा ट्रक की खरीदारी
You Are HereNational
Wednesday, December 25, 2013-8:19 PM

नई दिल्ली: विवादों में घिरा टाट्रा ट्रक भारतीय सशस्त्र सेनाओं में फिर से वापस आ सकता है क्योंकि सरकार इन वाहनों को एजेंट के माध्यम से खरीदने के बजाए सीधे कम्पनी से खरीदने की योजना बना रही है।

पूर्व सेना प्रमुख जनरल वी. के. सिंह ने आरोप लगाए थे कि इन वाहनों की खरीदारी को मंजूरी देने के लिए उन्हें 14 करोड़ रूपये की पेशकश की गई थी जिसके बाद भारतीय सेना को टाट्रा ट्रक बेचने वाली एक एजेंट कम्पनी संदेह के दायरे में आई थी। सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच के आदेश दिए थे।

आधिकारिक सूत्रों ने यहां प्रेट्र से कहा कि बेंगलूर की पीएसयू बीईएमएल और ब्रिटेन की टाट्रा सिपॉक्स के बीच समझौता 17 दिसम्बर को खत्म हो गया था । रक्षा मंत्रालय अब ट्रकों को चेक गणराज्य की टाट्रा ट्रक कम्पनी से खरीदने की योजना बना रहा है जो इन ट्रकों की निर्माता है। उन्होंने कहा कि योजना के मुताबिक चेक गणराज्य की निर्माता कम्पनी से बीईएमएल ट्रकों की खरीदारी करेगा।

सूत्रों ने कहा कि सशस्त्र बलों की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत ने खरीदारी के लिए कम्पनी से भी बातचीत की लेकिन निर्माता ने बेचने से इंकार कर दिया। ब्रिटेन की कम्पनी से टाट्रा ट्रक खरीदने पर रोक के कारण ऐसे 6500 ट्रकों का रखरखाव कल-पुर्जे की कमी एवं अन्य कारणों से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। पिछले वर्ष आरोपों के बाद सरकार ने सीबीआई जांच लंबित रहने को देखते हुए ट्रकों की खरीदारी रोकने का निर्णय किया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You