उम्रकैद की सजा काट रहा आरोपी निकला नाबालिग

  • उम्रकैद की सजा काट रहा आरोपी निकला नाबालिग
You Are HereNational
Wednesday, December 25, 2013-9:08 PM

नई दिल्ली : हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे एक आरोपी को दस साल जेल में बिताने के बाद आखिरकार न्याय मिल गया है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने इस आरोपी को राहत देते हुए उसे रिहा करने का आदेश दिया है।

न्यायमूर्ति जी.एस.सिस्तानी की खंडपीठ ने कहा कि तमाम तथ्यों से यह साबित हो गया है कि आरोपी घटना के समय नाबालिग था। ऐसे में बाल न्यायालय के नियमों के अनुसार उसे अधिक्तम तीन साल की सजा दी जा सकती है। लेकिन वह पहले ही दस साल जेल में बिता चुका है। इसलिए उसे रिहा कर दिया जाए क्योंकि वह उसको मिलने वाली सजा से अधिक सजा पहले ही काट चुका है।

वर्ष 2003 में हुई एक हत्या के मामले में पुलिस ने इस आरोपी को गिरफ्तार किया था। निचली अदालत ने हत्या के मामले में इस आरोपी को दोषी करार देते हुए उसे 22 अप्रैल 2009 को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। इस फैसले को उसने दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष चुनौती दी थी। साथ ही कहा कि वह घटना के समय नाबालिग था।

सबूत के तौर पर उसने उत्तर प्रदेश  के सुलतानुर जिला के एक प्राइमरी स्कूल का सर्टिफिकेट पेश किया। जिसके अनुसार वह घटना के समय नाबालिग था। उसके बाद न्यायालय ने मेडिकल बोर्ड गठित करके उसकी उम्र की जांच के आदेश दिए। चिकित्सीय जांच में पाया गया कि 10 वर्ष पूर्र्व हुई घटना के समय आरोपी नाबालिग था। इस रिपोर्ट के आधार पर न्यायालय ने उसे घटना के समय नाबालिग मानते हुए रिहा करने का आदेश दिया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You