हत्या का नाबालिग आरोपी जेल से रिहा

  • हत्या का नाबालिग आरोपी जेल से रिहा
You Are HereNational
Thursday, December 26, 2013-12:46 PM

मुंबई: बॉम्बे हाई कोर्ट ने सोमवार को हत्या के मामले में दोषी पाए गए लड़के राजू(काल्पनिक नाम) को रिहा कर दिया। कोर्ट का कहना था कि जब लड़के ने जुर्म किया था, तब वह नाबालिग था। एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक, जस्टिस पीवी हरदास और जस्टिस पीएम देशमुख की बेंच ने कहा कि घटना के दिन लड़के की उम्र 16 साल, 11 महीना और 7 दिन थी। अगर किसी और मामले में उसकी जरूरत न हो तो राज्य उसे रिहा कर दे।

आपको बतां दे कि 17 मई 2005 को भांडप इलाके में रहने वाले राजू की इलाके के एक लड़के श्रीकांत से लड़ाई हो गई और उसने श्रीकांत के कपड़े फाड़ दिए। जब श्रीकांत के पिता राजाराम उससे पूछताछ करने पहुंचे तो दोनों में हाथापाई हो गई। राजू ने चाकू निकाला और राजाराम की छाती में मार दिया, जिसके बाद अस्पताल में राजाराम को मृत घोषित कर दिया गया। राजू का मामला जब हाई कोर्ट पहुंचा तो उसने दावा किया कि 2005 में वह नाबालिग था। कोर्ट ने जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड को इस बारे में जांच करने को कहा। बोर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक उसकी जन्मतिथि 10 जून 1988 थी, यानी 2005 में वह नाबालिग था।

राजू को एक साल चले ट्रायल के बाद सेशन्स अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी। लेकिन जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के मुताबिक, 18 साल से कम उम्र के अपराधी को नाबालिग की तरह ही ट्रीट किया जाना चाहिए। ऐसे दोषी को ज्यादा से ज्यादा तीन साल कैद की सजा दी जा सकती है, जबकि वह लड़का आठ साल से ज्यादा समय जेल में काट चुका है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You