सुरक्षा न लेने वाले अकेले नहीं हैं केजरीवाल

  • सुरक्षा न लेने वाले अकेले नहीं हैं केजरीवाल
You Are HereNcr
Thursday, December 26, 2013-3:03 PM

नई दिल्ली (सज्जन चौधरी): सुरक्षा न लेने और सादगी से जीवन व्यतीत करने वाले नेताओं में अरविंद केजरीवाल अकेले नहीं हैं, देश के गृहमंत्री पी.चिदंबरम समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी अपने लिए कोई विशेष सुरक्षा नहीं ली है। कई नेता सांसद होने के बाद भी किराए के मकानों में रह रहे हैं। जनता के लिए अपने दरवाजे 24 घंटे खुले रखने की बात कहने वाले केजरीवाल से पहले भी भाजपा-कांग्रेस के कई नेताओं के दरवाजे जनता के लिए कभी बंद नहीं हुए।

जार्ज फर्नांडिस सरीखे नेताओं के यहां रात के 2-2 बजे तक जनता का दरबार लगा रहता था। देश के गृह मंत्री पी.चिदंबरम मामूली सुरक्षा में चलते हैं। हैरान करने वाली बात यह है कि ज्यादातर नेताओं की तरह उनकी कार के आगे-पीछे गाडिय़ों का लाव-लश्कर नहीं होता है। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर परिकर आज भी अपनी स्कूटी से विधानसभा जाते हैं। सिर्फ वही नहीं उनकी पत्नी भी रिक्शा में बैठकर बिना किसी सुरक्षा के बाजार से सब्जियां लाती हैं।

मिजोरम के मुख्यमंत्री ललथन हावला लगातार 3 बार से मुख्यमंत्री हैं, लेकिन आजतक उन्होंने कोई भी सुरक्षा नहीं ली है। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार का नाम भी ऐसे ही मुख्यमंत्रियों में आता है, जिन्होंने कोई सुरक्षा नहीं ले रखी है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बिना किसी सुरक्षा के पूरे प्रदेश की जनता से मिलती हैं।  उनका कहना है कि सुरक्षा की वजह से उन्हें जनता से मिलने में परेशानी होती है। देश की सबसे युवा सांसद और पूर्व राज्य मंत्री अगाथा संगमा दिल्ली की लोधी कालोनी में किराये के मकान में रहती हैं। पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य भी उन नेताओं में से एक हैं, जिन्होंने सुरक्षा नहीं ली।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You