पहली बार चुने गए विधायकों को सता रहा है वादे अधूरे रहने का डर

  • पहली बार चुने गए विधायकों को सता रहा है वादे अधूरे रहने का डर
You Are HereNcr
Friday, December 27, 2013-1:47 PM

नई दिल्ली (अमित कसाना): विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी ने मतदाताओं को लोकल मेनिफैस्टो का फसाना सुनाया था। यानी हर विधानसभा क्षेत्र की जरूरतों के अनुसार अलग-अलग मेनिफैस्टो जारी किया था। आप ने वादा किया था कि अगर  सरकार बनी तो फसाना सच करके दिखाया जाएगा। अब अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं तो आप के विधायकों को यह डर सताने लगा है कि कहीं लोकल मेनिफैस्टो का फसाना अधूरा न रह जाए।

कांग्रेस के समर्थन से बनने जा रही सरकार को लेकर भी आप विधायक आशंकित हैं और किसी भी तरह स्थानीय स्तर की घोषणाएं पूरी करवाने के लिए 4 महीने का लक्ष्य बनाकर चल रहे हैं। स्वराज का संकल्प, न खोखले दावे, न झूठे वादे सच की राजनीति... इसी तरह के नारे आप के प्रत्याशियों ने लगाए थे।प्रचार के दौरान वादों को सुनकर जनता ने विश्वास किया और लोकल मेनिफैस्टो के पूरा होने की उम्मीद बांध ली।

हालांकि बहुत सोच-समझकर अरविंद केजरीवाल ने जनता की राय पर सरकार बनाने का फैसला किया है। उन्होंने ऐलान कर दिया है कि 24 घंटे में मुफ्त पानी और 15 दिन में जनलोकपाल का वादा पूरा करेंगे। यहीं नहीं बिजली के दाम घटाने के लिए भी तेजी से काम करने की बात केजरीवाल ने कह दी है।

लेकिन अलग-अलग विधानसभा क्षेत्रों से जीते आप विधायक स्थानीय जरूरत और विकास कार्यों को किसी भी तरह जल्द से जल्द पूरा करवाने के लिए योजना बना रहे हैं। आप के विधायक पानी, सीवर व बिजली आदि समस्याओं पर संबंधित अधिकारियों से मिलकर योजनाएं बनाने की बात कह रहे हैं। आप के कुछ विधायक कह रहे हैं कि लोकल मेनिफैस्टो में जो वादे किए गए हैं उनको किसी भी तरह पूरा किया जाएगा।

यह पूछने पर की कैसे? आप विधायकों ने इसका कोई जवाब नहीं दिया। कुछ आप विधायक ऐसे भी हैं जिनका कहना है कि क्षेत्र में काम को लेकर उनका होमवर्क पूरा है। बस इंतजार है तो शपथ ग्रहण करने और सरकार बनने का। 4 माह में अधिक से अधिक काम करके दिखाया जाएगा। अंबेडकर नगर विधानसभा के मैनिफैस्टो में आप ने शिक्षा के विषय को कार्यसूची में सबसे ऊपर रखा था। इसके बाद सभी को पेयजल उपलब्ध करना पार्टी की दूसरी प्राथमिकता है। फिर बिजली, सफाई आदि सुविधाओं को मेनिफैस्टो में रखा गया है।

जब अंबेडकर नगर के आप विधायक अशोक कुमार चौहान से बात की गई तो उन्होंने कहा कि कुछ वार्ड में पानी की पाइप लाइन है, लेकिन पानी नहीं है इसलिए सबसे पहले लोगों के घर तक पानी पहुंचाया जाएगा। कोशिश रहेगी कि शुरू के 4 महीने में इस काम को अंजाम दे दिया जाए। नलों में पेयजल पहुंचाने के लिए क्या योजना है, यह पूछने पर चौहान चुप हो गए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You