मायके भेजने के नाम पर पत्नी और बेटे की हत्या

  • मायके भेजने के नाम पर पत्नी और बेटे की हत्या
You Are HereNational
Friday, December 27, 2013-5:11 PM

छतरपुर: विवाह के एक साल तक बेटी को मायके नहीं भेजने पर उसे लिवाने गए भाई और मां पर दामाद ने कुल्हाड़ी से प्राणघातक हमला कर दिया, जिसमें उसकी पत्नी जनक बाई और पुत्र की मौत हो गई तथा पत्नी की मां गंभीर रूप से घायल हो गई। पुलिस ने आज यहां बताया कि यहां से 22 किलोमीटर दूर सटई थाना क्षेत्र के कटारा गांव में कल सुबह आरोपी ने पत्नी और बच्चे की हत्या कर दी तथा सास को घायल कर दिया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

मृतका जनक बाई के भाई गोविन्द पाल ने पुलिस को दिए बयान में बताया है कि लगभग एक साल पहले उनकी बहन जनक की शादी हल्के पाल से हुई थी और तब से हल्के हमारी बहन को मायके नहीं भेज रहा था। उसने कहा कि कल वह खुद और हमारी मां बेनी बाई अपनी बहन एवं बेटी जनक को लिवाने कटारा गांव आए थे। आज सुबह हल्के पाल ने उठ कर पहले तो अपनी पत्नी जनक को मायके भेजने से मना कर दिया, फिर अचानक कुल्हाड़ी से उस पर कई वार किए, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

इसके बाद आरोपी हल्के ने पास में ही खेल रहे अपने अबोध बालक को भी कुल्हाड़ी मार दी और निकट ही आग ताप रही अपनी सास बेनी बाई को भी कुल्हाड़ी मार कर घायल कर दिया। उसने बताया कि हमने अपने भांजे और मां को जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां भांजे की भी मौत हो गई है, जबकि मां बेनी बाई की हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस ने हत्या और हत्या का प्रयास तथा अन्य संबंधित आपराधिक धाराओं में प्रकरण कायम कर आरोपी हल्के पाल को गिरफ्तार कर लिया है तथा मामले की विवेचना की जा रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You