लोकसभा चुनाव 2014: बहुगुणा का कार्ड तय करेगा सांसदों के भाग्य का फैसला

  • लोकसभा चुनाव 2014: बहुगुणा का कार्ड तय करेगा सांसदों के भाग्य का फैसला
You Are HereNational
Friday, December 27, 2013-4:31 PM

ऋषिकेश/देहरादून: कांग्रेस हाई कमान द्वारा दिल्ली में आयोजित की गई कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों द्वारा लोकसभा चुनाव से पूर्व बैठक में अपने-अपने राज्यों का रिपोर्ट कार्ड लेकर पहुंचने की हिदायत के चलते उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा पिछले तीन दिनों से तमाम विभागों के प्रमुख सचिवों के साथ अपना रिपोर्ट कार्ड तैयार करने में जुटे हैं। जिससे वह उक्त बैठक में अपना लेखा-जोखा प्रस्तुत कर सकें। ज्ञात रहे कि कांग्रेस हाई कमान ने वर्ष 2014 में होने वाले लोकसभा चुनाव को पार्टी की प्रतिष्ठा का सवाल बनाया है। क्योंकि यह चुनाव 125 वर्ष पुरानी कांग्रेस की कमान युवा नेतृत्व को सौंपे जाने से पूर्व उनके कार्यों की परीक्षा का परिणाम भी जनता को सुनायेगें। साथ ही उक्त बैठक में कांग्रेस शासित राज्यों द्वारा किये जा रहे जनता से जुड़े मुददों व कांग्रेस के घोषणा पत्र पर कितना अमल किया गया है इसका लेखा-जोखा भी प्रस्तुत किया जायेगा। इसी के चलते तमाम मुख्यमंत्री अपने-अपने राज्यों में किये गये कार्यो की प्रगति रिपोर्ट तैयार कर ला रहे हैं।

उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री ने हालांकि इसी वर्ष गढ़वाल में आाई प्राकृतिक आपदा के दौरान विकास कार्य में काफी पिछड़े होने का अपना रिपोर्ट कार्ड हाई कमान को सौंपकर उन्हे आर्थिक मदद दिए जाने की बात कही थी। लेकिन उस पर केंद्र सरकार द्वारा पर्याप्त मात्रा में आर्थिक मदद न मिलने का भी रोना रोया था। हाल ही में परमार्थ निकेतन में आयोजित वैज्ञानिकों के एक सम्मेलन के दौरान मुख्यमंत्री ने प्राकृतिक आपदा के दौरान 550 से अधिक सड़कों के क्षतिग्रस्त होने व विकास कार्यों की धीमी गति का होना भी स्वीकार किया । उसके बावजूद भी आगामी होने वाले चुनाव के मद्देनजर दिल्ली में आयोजित बैठक के दौरान मुख्यमंत्री को अपना रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत करने के चलते पिछले तीन दिनों से तमाम विभागों की प्रगति रिपोर्ट तैयार की जा रही है। यह रिपोर्ट उनके राज्य के उन सांसदों का भाग्य भी तय करेंगे जो कि चुनाव में उतरने वाले हैं।

हालांकि कांग्रेस सांसद व जल संसाधन मंत्री हरीश रावत व सांसद प्रदीप टम्टा, सतपाल महाराज बहुगुणा के कार्यों से अपने आप को दूर रखे हुए हैं और वह समय समय पर इसका विरोध भी जताते रहे हैं। जिनका मानना है कि वह बहुगुणा के नेतृत्व में यह लोकसभा चुनाव संभवत: नहीं जीत पायेगें जिन्हे तत्काल बदले जाने की आवश्यकता है और इस बात को वह यदा कदा हाईकमान को भी नाराजगी के रूप में प्रकट कर चुके है । कुल मिलाकर दिल्ली में केन्द्र शासित राज्यों की हाईकमान द्वारा बुलाई गई बैठक मे हाई कमान केा विजय बहुगुणा अपने रिपोर्ट कार्ड से कितना खुश कर पायेगें यह तो समय ही बतायेगा।   


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You