मुजफ्फरनगर दंगेः सरकारी भवनों में रहेंगे राहत शिविर के लोग

  • मुजफ्फरनगर दंगेः सरकारी भवनों में रहेंगे राहत शिविर के लोग
You Are HereNational
Friday, December 27, 2013-10:28 PM

लखनऊः उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर दंगा राहत शिविर के लोगों को अस्थायी कैम्पों से निकाल कर सरकारी भवनों में रखा जाएगा। प्रदेश सरकार की एक उच्चस्तरीय बैठक में आज यह निर्णय लिया गया। सितम्बर में हुए इस दंगे के बाद मुजफ्फरनगर तथा शामलीजिलों में स्थापित पांच राहत शिविरों में इस समय लगभग 4800 व्यक्ति रह रहे हैं।

राज्य के मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि वैसे तो दंगा पीडितों को उनकी घर वापसी के लिए राजी किया जाएगा लेकिन तैयार न होने पर उन्हें सरकारी भवनों में लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि यहां ठंड से बचाव के लिए नहीं बल्कि अन्य सभी सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

उन्होंने बताया कि राहत शिविरों में रहने के लिए भी पीडितों के पास विभिन्न कारण हैं। कुछ पुनर्वास के लिए पांच लाख रुपये की मांग कर रहे हैं तो कुछ के परिवारों में इस धन के दावे का विवाद है। उन्होंने कहा कुछ को यह भ्रांति है कि जहां वह रह रहे हैं वही जमीन इनको आवंटित कर दी जाएगी। ज्ञातव्य है कि हाल ही में इन शिविरों में ठंड से 34 बच्चों की मृत्यु पर राज्य सरकार काफी आलोचना झेल रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You