लोकसभा चुनाव के लिए जनाधार को मजबूत करने में लगी अखिलेश सरकार

  • लोकसभा चुनाव के लिए जनाधार को मजबूत करने में लगी अखिलेश सरकार
You Are HereNational
Sunday, December 29, 2013-3:12 PM

मुरादाबाद: पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मुजफ्फनगर दंगो के बाद खिसकते जनाधार को मजबूती देने के लिए समाजवादी पार्टी (सपा) नेतृत्व ने अपने पुराने धुरंधरों को पार्टी में वापसी के संकेत देने की रणनीति पर अमल शुर कर दिया है। सूत्रों के अनुसार पिछले काफी अर्से से उहापोह की स्थिति में फंसे सांसद डा.शफीकुर्रहमान वर्क का बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से मोह भंग होने और सपा के कद्दावर नेता मोहम्मद आजम खां की नजदीकियों से नाराज बसपा ने वर्क को आगामी लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी न बनाए जाने की घोषणा कर दी। वहीं डा.वर्क ने घोषणा की कि वह आगामी लोकसभा का चुनाव संभल से ही लडेंग़े। पश्चिमी उत्तर प्रदेश की राजनीति में विशेष दखल रखने वाले सांसद डा.शफीकुर्रहमान वर्क वर्ष 2009 में बसपा के टिकट पर संभल से चुनाव जीते थे। चार बार विधायक और चार बार से लगातार सांसद बनते आ रहे डा. वर्क तीन बार सपा के टिकट पर मुरादाबाद से सांसद चुने जा चुके हैं।

मुरादाबाद मण्डल की राजनीति में डा.वर्क का बडा नाम है। बसपा ने डा.वर्क के मुकाबले का दमदार प्रत्याशी न होने की मजबूरी में सम्भल से प्रत्याशी घोषित किया हुआ था। संसद में वन्देमातरम का विरोध और अन्य सियासी मुद्दों खासतौर से मुस्लिमों के हितों पर मुखर रहे डा.वर्क बसपा की बैठकों में भी अपने बयानों से चर्चाओं में बने रहते हैं। पिछले कई महीनों से सपा से बढ़ती नजदीकियों को पुख्ता आधार उस समय मिला जब प्रदेश के कद्दावर मंत्री आजम खां. डा.वर्क की पोती की शादी में शामिल हुए और शादी से इतर अन्य मुद्दों पर बन्द कमरे में बातचीत हुई।  बसपा नेतृत्व सपा से बढ़ती नजदीकियों को लेकर परेशान था। अन्तत: हाल ही में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी बसपा नेता मुनकाद अली ने घोषणा की कि अब संभल से डा.वर्क के स्थान पर असमोली से पूर्व विधायक एवं बसपा नेत्री तरन्नुम अकिल के पति अकीलुर्रहमान बसपा के संभल सीट से लोकसभा प्रत्याशी होंगे। इससे पूर्व डा.वर्क के पोते जियाउर्रहमान वर्क का पिछले विधानसभा चुनाव के ऐन मौके पर टिकट काटकर बसपा नेतृत्व ने नाराजगी जाहिर की थी।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मुस्लिम मतदाताओं को एकजुट करने में लगी सपा मुस्लिम धर्मगुरओं और नेताओं की नाराजगी के बाद पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव ने पार्टी से छिटके ऐसे नेताओं की वापसी के लिए सहमति जताई है। इस सिलसिले में डा.शफीकुर्रहमान वर्क को पार्टी में शामिल कर मुरादाबाद, रामपुर तथा सम्भल में से किसी एक चुनाव क्षेत्र से प्रत्याशी बनाकर चुनाव मैदान में उतारा जाए तो अचंभा नहीं होगा। मुस्लिम बाहुल्य उक्त तीनों लोकसभा क्षेत्र में डा.वर्क के सजातीय तुर्क बिरादरी की तादाद काफी है जो किसी भी चुनाव की तस्वीर बदलने की कूबत रखती है। अब देखना है कि डा.वर्क का अगला सियासी कदम क्या होगा। डा.वर्क का कहना है कि वह सम्भल सीट से ही चुनाव लडेंग़े और इस बार चुनावी जंग रोचक होगी।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You