एक बार फिर रहा वेटेल का दबदबा, भारत 2014 सत्र से बाहर

  • एक बार फिर रहा वेटेल का दबदबा, भारत 2014 सत्र से बाहर
You Are HereNational
Sunday, December 29, 2013-4:18 PM

नई दिल्ली: जर्मनी के युवा ड्राइवर रेड बुल के सबेस्टियन वेटेल फार्मूला वन में अपना दबदबा कायम रखते हुए वर्ष 2013 में लगातार चौथे खिताब के साथ आधुनिक युग के महान ड्राइवर बने जबकि भारत को अगले साल एफवन कैलेंडर से हटा दिया गया। वेटल ने भारत में ही अपना लगातार चौथा खिताब जीता था।

अगस्त में बेल्जियम ग्रां प्री से लेकर नवंबर में सत्र की अंतिम ब्राजील ग्रां प्री तक वेटेल ने लगातार नौ रेस जीती और इस दौरान वह चार बार चैम्पियन बनने वाले सबसे युवा ड्राइवर बने। वेटेल ने इस दौरान लगातार सात ग्रां प्री जीतने का माइकल शुमाकर का रिकार्ड भी तोड़ा। उन्होंने साल में 13 रेस जीती और शुमाकर के एक सत्र में सर्वाधिक रेस जीतने के 2004 में बनाए रिकार्ड की बराबरी की।

रेड बुल की सफलता का श्रेय हालांकि टीम के मुख्य तकनीकी अधिकारी एंड्रये नेवे को भी जाता है जिन्होंने आरबी09 को लगभग अजेय बना दिया है। वेटेल के दबदबे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कभी हार नहीं मानने वाले फर्नांडो आलोंसो जैसे ड्राइवर स्वीकार कर चुके हैं कि वेटेल को हराया नहीं जा सकता, कम से कम इस सत्र में तो नहीं।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You