सिक्किम में भूकंपरोधी मकानों पर 390 करोड़ निवेश

  • सिक्किम में भूकंपरोधी मकानों पर 390 करोड़ निवेश
You Are HereNational
Sunday, December 29, 2013-5:51 PM

गंगटोक: सिक्किम सरकार ने राज्य के भूकंप संभावित इलाकों में भूकंपरोधी मकानों के निर्माण के लिए 390 करोड़ रुपए की लागत वाली एक परियोजना शुरू की है ताकि प्राकृतिक आपदा में जान-माल की हानि को यथासंभव घटाया जा सके। पूर्वोत्तर में 18 सितंबर 2011 को आए रिक्टर पैमाने पर 6.9 के भूकंप में 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी। इनमें से 70 मौतें सिक्किम में हुई थीं। सिक्किम देश में सर्वाधिक भूकंप संभावित क्षेत्र में पडऩे वाले राज्यों में हैं।

भूकंप से क्षतिग्रस्त ग्रामीण घरों का पुनर्निर्माण (आरईडीआरएच) परियोजना के लिए धनराशि की व्यवस्था प्रधानमंत्री विशेष राहत पैकेज से होती है, जिसकी घोषणा राज्य में 2011 में आए विनाशक भूकंप के बाद की गई थी। मुख्यमंत्री पवन चामलिंग ने कहा कि परियोजना के लिए आवंटित 389.83 करोड़ रुपए में से अब तक 227 करोड़ रुपए का उपयोग हो पाया है। परियोजना के तहत भूकंप से क्षतिग्रस्त 7,972 मकानों का पुनर्निर्माण कराया जाएगा और उसे भूकंपरोधी बनाया जाएगा।

चामलिंग ने यहां एक बयान में कहा, ‘‘इस परियोजना के अंतर्गत राज्य में 1,500 मकान बनाए जा चुके हैं, तथा 2014 में इस परियोजना को पूरा कर लिए जाने का लक्ष्य है।’’ इस परियोजना का संचालन राज्य सरकार का ग्रामीण प्रबंधन एवं विकास विभाग को सौंपा गया है, जो स्थानीय मौसम के अनुरूप न्यूनतम लागत से आधुनिक मकानों के पुनर्निर्माण सिद्धांत पर काम करेगा।

परियोजना के तहत प्रत्येक मकान पर छह लाख रुपए खर्च होंगे, जिसमें अनुदान का हिस्सा 4.89 लाख चार किस्तों में दिया जाएगा। प्रथम किस्त लाभार्थी की पहचान पर जारी किया जाएगा। उसके बाद शेष तीन किस्तें क्रमश: प्लिंथ निर्माण, छत ढलाई और मकान निर्माण पूर्ण होने पर जारी की जाएंगी। प्रत्येक लाभार्थी अपने-अपने मकान में अपनी ओर से 1.11 लाख रुपये लगाएंगे।

बयान के मुताबिक, ‘‘निर्माण खर्च कम करने लिए कई इन्नोवेटिव तरीके अपनाए जा रहे हैं। इसके तहत प्रत्येक मकान का निर्माण रोलर-कंपैक्ट कंक्रीट (आरसीसी) फ्रेम और स्लैब रूफ के साथ 605 वर्गफुट प्लिंथ क्षेत्रफल में किया जा रहा है।’’ कुछ दूर दराज के इलाकों में टीन वाले छत का विकल्प भी अपनाया जा रहा है। परियोजना में आरएमडीडी विभाग से प्रशिक्षण प्राप्त स्थानीय भवन निर्माण विशेषज्ञों को भूकंपरोधी मकान के निर्माण कार्य में लगाया जाता है।

परियोजना का एक उद्देश्य भूकंपरोधी मकान निर्माण प्रौद्योगिकी को क्षेत्र में लोकप्रिय बनाना भी है, जिसे सिर्फ स्थानीय स्तर पर उपलब्ध सही प्रौद्योगिकी, सभी लोगों द्वारा जानी जाने वाली एवं सांस्कृतिक रुप से स्वीकार्य और कम मूल्य वाला रखकर ही लोकप्रिय बनाया जा सकता है। अधिकांश मकान गृह स्वामी के विकल्प के आधार पर बनाए जा रहे हैं, जो गृह स्वामी को संतुष्टि प्रदान करने वाला भी साबित हो रहा है। स्थानीय भौगोलिक परिस्थितियों एवं परंपरा के अनुरूप इन भवनों के निर्माण में गृह स्वामी को कुछ छूट भी प्रदान की जा री रही है, जैसे शौचालय और रसोई को घर से अलग बाहर बनवाने की इजाजत भी दी गई है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You