नव वर्ष पर बुला रहीं हिमाचल की बर्फीली चोटियां

  • नव वर्ष पर बुला रहीं हिमाचल की बर्फीली चोटियां
You Are HereNational
Monday, December 30, 2013-1:16 AM

शिमला: मनाली, नरकंडा और कल्पा जैसे हिमाचल के लोकप्रिय पर्वतीय पर्यटन स्थल बर्फ की चादर से ढक गए हैं और नव वर्ष पर सैर करने वालों के लिए और भी आकर्षक हो गए हैं। होटल कारोबारियों का कहना है कि आखिरी सप्ताह में पड़ी बर्फ ने सैलानियों को आकर्षित किया है और नव वर्ष के मौके पर सैलानियों की संख्या 50 हजार से अधिक हो सकती है।

मौसम कार्यालय के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा कि जिन स्थानों पर बर्फ पड़ी है, वहां तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस के आसपास है। उन्होंने कहा कि 30-31 दिसंबर को कुछ स्थानों पर बारिश या बर्फबारी की संभावना है। शिमला में तो नहीं, लेकिन नजदीकी पर्यटन स्थल कुफरी और नरकंडा बर्फ की चादर से ढके हुए हैं। यहां क्लार्क होटल के महाप्रबंधक डी.पी. भाटिया ने कहा, ‘‘साल के आखिर के कुछ दिनों में रिकार्ड संख्या में सैलानियों के आने की उम्मीद है।’’

भाटिया ने कहा कि कई लोग शिमला में बर्फ पडऩे की संभावना के बारे में पूछ चुके हैं और उन्होंने उन सबको बर्फ देखने के लिए नरकंडा और कुफरी जाने का सुझाव दिया है। नरकंडा में बर्फ की मोटी चादर बिछी है। शिमला में हालांकि बर्फ देखने को नहीं मिल रहा। यहां से करीब 250 किलोमीटर दूर कुल्लू जिले के मनाली में भी बर्फ की चादर बिछी है।

मनाली के एक ट्रैवल एजेंट एम.सी. ठाकुर ने कहा, ‘‘कई होटल पहले से ही फुल हैं। पर्यटक खास रूप से गुजरात और महाराष्ट्र से आए हैं।’’ अधिकतर पर्यटक स्कीइंग, स्नो-स्कूटर चलाने और स्लेजिंग का आनंद लेने के लिए मनाली के पास गुलाबा और सोलांग ढलान जाएंगे। रोहतांग दर्रा तक जाने की इच्छा रखने वाले पर्यटकों को गुलाबा से आगे जाने की इजाजत नहीं है।

ट्रैवल एजेंसियों के मुताबिक इस मौसम में अधिकतर पर्यटक शिमला, नरकंडा, कसौली, सांगला, मनाली, धर्मशाला, पालमपुर और डलहौजी का रुख कर रहे हैं। पर्यटन, हिमाचल प्रदेश की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान करता है। पिछले साल राज्य में 1.61 करोड़ पर्यटक पहुंचे थे, जिनमें से 4,97,850 विदेशी थे। पर्यटकों की सालाना संख्या राज्य की कुल आबादी (करीब 65 लाख) को पार कर चुकी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You