‘सेक्स एजुकेशन प्रोग्राम बच्चों के लिए गलत’

  • ‘सेक्स एजुकेशन प्रोग्राम बच्चों के लिए गलत’
You Are HereNational
Monday, December 30, 2013-10:46 AM

नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के जज एल नरसिम्हा रेड्डी ने रविवार को बाल यौन शोषण से संबंधित एक कार्यक्रम में हाईस्कूल में सेक्स एजुकेशन को गलत ठहराया। रेड्डी ने कहा है कि 2005-06 में हाई स्कूलों में लांच हुए सेक्स एजुकेशन प्रोग्राम से बच्चों का दिमाग खराब हुआ है। अब बच्चों को सही राह पर लाने की जिम्मेदारी अभिभावकों की है।

कार्यक्रम में मौजूद आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस कल्याण ज्योति सेनगुप्ता ने भी माना कि यौन अपराध से बच्चों की सुरक्षा अधिनियम को लागू तो कर दिया गया है, परंतु अभी इसके लिए काफी कुछ करना बाकी है। इसके अलावा न्यूक्लियर फैमिली कल्चर को यौन अपराधो का दोषी मानते हुए राज्य के डीजीपी बी प्रसाद राव ने कहा कि माता-पिता बच्चों को समय नहीं दे पाते और उनकी देखभाल की जिम्मेदारी नौकरानी या वार्डन को सौंप देते हैं। उन्होंने कहा कि टीवी, सिनेमा, इंटरनेट और मोबाइल फोन का भी बच्चों पर गलत प्रबाव पड़ रहा हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You