फारूकी के जरिए कई मुस्लिम संगठनों का समर्थन पा सकती है ‘आप’

  • फारूकी के जरिए कई मुस्लिम संगठनों का समर्थन पा सकती है ‘आप’
You Are HereNational
Monday, December 30, 2013-2:51 PM

नर्इ दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) के साथ जुडऩे की तैयारी कर रहे कमाल फारूकी के प्रमुख मुस्लिम संगठनों के साथ नजदीकी रिश्ते का फायदा पार्टी को आगामी लोकसभा चुनाव में मिल सकता है और शायद यही वजह है कि आप के शीर्ष नेतृत्व ने उनसे साथ आने की पेशकश की है। आप के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से कल मुलाकात करने वाले फारूकी ने आज कहा, ‘‘आप के शीर्ष नेतृत्व के लोग मुझसे मिले थे और इसी के बाद कल मेरी केजरीवाल से मुलाकात हुई। मैं इस पार्टी के विचारों से प्रभावित हूं।’’
  
उन्होंने यह नहीं बताया कि वह कब आप की सदस्यता लेंगे, हालांकि उनके करीबियों का कहना है कि आप के शीर्ष नेतृत्व की ओर से अगले एक या दो दिन में इसका ऐलान हो सकता है। इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी यासीन भटकल को लेकर विवादास्पद बयान देने और लोकपाल पर समाजवादी पार्टी के रूख का विरोध करने के बाद उन्हें सपा से अलग कर दिया गया था। दिल्ली विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन करने वाली आप को फारूकी को साथ जोडऩे से कई मुस्लिम संगठनों की मदद मिल सकती है। महमूद मदनी की जमीयत उलेमा-ए-हिंद और ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत तथा कुछ दूसरे मुस्लिम संगठनों से फारूकी की बेहद नजदीकी है।
  
इस बारे में फारूकी कहते हैं, ‘‘मुस्लिम समाज और संगठन उन दलों से बहुत निराश हैं जो अपने आप को धर्मनिरपेक्ष कहते हैं। ऐसे में ‘आप’ मुस्लिम तथा समाज के सभी तबकों के लिए एक नर्इ उम्मीद बनकर आई है।’’फारूकी के करीबियों और आप के सूत्रों का कहना है कि आगामी लोकसभा चुनाव में फारूकी को उत्तर प्रदेश की मुरादाबाद सीट से चुनाव लडऩे की पेशकश की गई है।
 
इस बारे में मूल रूप से उत्तर प्रदेश के अमरोहा के निवासी फारूकी ने कहा, ‘‘पार्टी में जुडऩे के बाद मुझे जो भी आदेश होगा, उसका मैं पालन करूंगा।’’ दिल्ली के बाद राष्ट्रीय स्तर पर अपने कदम मजबूत करने की कोशिश कर रही कि आप मुस्लिम समाज में अपनी पैठ बढ़ाने की कोशिश कर रही है। इसको लेकर उसके नेता समय समय पर मुस्लिम संगठनों के लोगों से मुलाकात करते रहे हैं। ‘दक्षिण एशियाई अल्पसंख्यक वकील संगठन’ (सामला) के महासचिव फिरोज खान गाजी का कहना है, ‘‘दिल्ली चुनाव के बाद मुसलमानों का झुकाव आप की तरफ तेजी से बढ़ा है। ऐसे में कमाल फारूकी जैसे नेताओं के पार्टी के साथ जुडऩे से आप की मुस्लिम समाज में पैठ बढ़ सकती है।’’
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You