दिल्लीवासियों को हर माह 20,000 लीटर मुफ्त पानी

  • दिल्लीवासियों को हर माह 20,000 लीटर मुफ्त पानी
You Are HereNational
Tuesday, December 31, 2013-12:22 AM

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) ने दिल्ली में अपने चुनाव घोषणा पत्र के मुख्य वायदे को पूरा करते हुए जनवरी से लोगों को रोजाना 700 लीटर पानी मुफ्त देने की आज घोषणा कर दी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के गाजियाबाद में कौशांबी स्थित निजी आवास पर दिल्ली जल बोर्ड (डी.जे.बी.) के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया।

फैसले की जानकारी देते हुए बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विजय कुमार ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि दिल्ली वासियों को एक जनवरी 2014 से हर माह 20 हजार लीटर पानी मुफ्त दिया जाएगा। यह योजना 3 माह यानी 31 मार्च 2014 तक के लिए है। इसका सारा खर्च जल बोर्ड वहन करेगा। मुफ्त पानी उन्हीं घरों में मिलेगा जहां मीटर लगे हैं और ये ठीक काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि माह में इससे अधिक पानी की खपत करने पर इस्तेमाल किए गए पूरे पानी का शुल्क अदा करना होगा। कुमार ने बताया कि पानी के बकाया बिलों को छूट के साथ अदा करने की अंतिम तिथि को 31 दिसम्बर से बढ़ाकर 31 मार्च 2014 कर दिया गया है।

आम आदमी पार्टी के इरादों का असर बिजली सैक्टर में भी नजर आने लगा है। ‘आप’ बिजली के मोर्चे पर क्या करती है, इसका इंतजार किए बगैर ही बिजली महकमे में हलचल है। यह साफ कर दिया गया है कि मार्च तक बिजली की कीमत में इजाफा नहीं होगा। दिल्ली सचिवालय में मीडिया के प्रवेश को बंद करने पर खासा हंगामा हुआ और अंतत: आदेश को वापस लेना पड़ा। दिल्ली सचिवालय पर सुबह से ही मीडिया का जमावड़ा था किंतु मीडिया कर्मियों को 6 नंबर गेट के पास बने प्रैस रूम से आगे जाने पर रोक लगा दी गई।

यहां तक कि जिन मीडिया कर्मियों के पास दिल्ली सरकार से मान्यता प्राप्त कार्ड थे उनके प्रवेश पर भी रोक थी। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन का पहले 12 बजे संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करना निर्धारित था जिसका समय बढ़ाकर एक बजे किया गया और फिर डेढ़ बजे लेकिन बाद में इसे रद्द कर दिया गया क्योंकि पत्रकारों ने उसका बहिष्कार कर दिया था। उधर मीडियाकर्मी सचिवालय में प्रवेश रोक को लेकर काफी नाराज रहे और 6 नंबर गेट के आसपास घूमते रहे। अंत में शिक्षा और शहरी विकास मंत्री मनीष सिसौदिया को बाहर आना पड़ा और उन्होंने कहा कि मीडिया के लिए जो व्यवस्था पहले थी वही लागू रहेगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You