अस्पताल में वार्मर रेडिएंट ओवरहीट होने से नवजात की मौत

  • अस्पताल में वार्मर रेडिएंट ओवरहीट होने से नवजात की मौत
You Are HereNational
Tuesday, December 31, 2013-10:06 AM

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ जिला स्थित मेडिकल कॉलेज के शिशु विभाग में एक नवजात वार्मर रेडिएंट ओवरहीट हो जाने की वजह बुरी तरह झुलस गया जिससे उसकी मौत हो गई। बच्चे के परिजनों ने घटना के लिए अस्पताल प्रशासन को जिम्मेदार बताते हुए अस्पताल परिसर में हंगामा किया। मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने घटना की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर दी है।

मृतक नवजात के पिता वसीम (सोरम, मुजफ्फरनगर) ने बताया कि उसकी पत्नी इशरत ने 25 दिसम्बर को एक निजी अस्पताल में शिशु को जन्म दिया था। प्री-मैच्योर होने के कारण बच्चे का वजन कम था। निजी अस्पताल के चिकित्सकों की सलाह पर शिशु को 27 दिसम्बर को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। यहां उसे चिकित्सकों ने रेडिएंट वार्मर पर रखा। सोमवार तड़के वार्मर का तापमान बहुत अधिक बढ़ गया, जिससे शिशु के कपड़े में आग लग गई। एक मरीज के रिश्तेदार के शोर मचाने पर वार्मर का स्विच ऑफ किया गया। लेकिन तब तक शिशु 70 फीसदी झुलस चुका था और उपचार के दौरान सोमवार शाम उसकी मौत हो गई।

मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. प्रदीप भारती ने इस घटना की जांच के लिए सीएमएस डॉ. सुभाष की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर दी है। उन्होंने बताया कि रिपोर्ट में यदि लापरवाही का पता चलता है तो दोषी व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उधर, मेडिकल बाल विभागाध्यक्ष डॉ. अमित पाठक ने बताया कि शार्ट सर्किट होने की वजह से हादसा हुआ। उन्होंने कहा कि बच्चे के परिजनों को बता दिया गया था कि वेंटिलेटर से हटाने पर उसकी जान जा सकती है। लेकिन परिजन शिशु को भर्ती नहीं रखना चाहते थे। ऐसे में वेंटिलेटर से हटाए जाने के बाद शिशु की मौत हो गई।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You