मुजफ्फरनगर दंगा पीड़ित: 50 परिवारों ने ली बस स्टैंड में शरण

  • मुजफ्फरनगर दंगा पीड़ित: 50 परिवारों ने ली बस स्टैंड में शरण
You Are HereNational
Tuesday, December 31, 2013-11:33 AM

मुजफ्फरनगर: उत्तर प्रदेश सरकार का कहर मुजफ्फरनगर दंगा पीड़ितों पर अब भी जारी है। बताया जा रहा है कि मुजफ्फरनगर दंगा पीड़ितों के कैंपों में शरणार्थियों की खराब हालत से मीडिया की नजर हटाने के लिए प्रशासन अब पीड़ितों को जबरन कैंपों से बाहर निकाल रहे हैं। कैंपों से बाहर निकाले गए 50 परिवारों को मजबूरी में एक बस स्टैंड में रहना पड़ रहा है। और बस स्टैंड में न तो टॉयलेट्स है और न ही लाइट और पानी की सुविधा है।

इसके साथ ही प्रशासन यह भी दावा कर रहा हा कि दंगा पीड़ित परिवारों को मुआवजा मिल चुका है और वह अपनी मर्जी से कैंप छोड़ कर अपने घर जा रहे है। पर जब इसी सिलसिले में दंगा पीड़ितों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि प्रशासन अब जबरन उन्हें कैंप छोडऩे के लिए मजबूर कर रहे हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले राष्ट्रीय लोक दल के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहर ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया था कि प्रदेश सरकार शिविरों को हटाकर दंगा पीड़ितों के जख्मों को ताजा करने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि दंगा राहत शिविरों को खाली कराने के लिए प्रशासन ने परिवारों के सिर से इस नाजुक समय में आशियाना छीनने का काम किया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You