केजरीवाल ने दूसरा वादा पूरा किया, दिए बिजली वितरण कंपनियों के ऑडिट के आदेश

  • केजरीवाल ने दूसरा वादा पूरा किया, दिए बिजली वितरण कंपनियों के ऑडिट के आदेश
You Are HereNational
Tuesday, December 31, 2013-5:07 PM

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद  केजरीवाल ने राजधानी की बिजली कंपनियों को कल तक यह बताने को कहा है कि उनकी लेखा जांच क्यों न कराई जाए। केजरीवाल ने आज यहां नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक,सीएजी, शशिकांत शर्मा से मुलाकात के बाद संवाददाताओं को बताया कि बिजली कंपनियों का जवाब मिलने के बाद सरकार उनकी लेखा जांच कराने के बारे में फैसला करेगी।  यह पूछे जाने पर कि इस लेखा जांच में कितना समय लगेगा, उन्होंने कहा कि सीएजी ने उन्हें बताया है कि कंपनियों का कामकाज देखने के बाद ही वह इस बारे में कुछ कह सकते हैं। यह इस बात पर भी निर्भर करेगा कि कंपनियां कितनी जल्दी अपने कागजात उपलब्ध कराती है।

BSES यमुना, BSES राजधानी और NDPL का ऑडिट होगा।  केजरीवाल सरकार के इस कदम को चुनावी वादे को पूरा करने वाला कदम माना जा सकता है। आम आदमी पार्टी ने चुनाव के दौरान दिल्ली की जनता से वायदा किया था कि इन कंपनियों के ऑडिट कराए जाएंगे ताकि इनके घाटे के दावों की सच्चाई जानी जा सके। केजरीवाल ने कहा कि उन्हें भी नहीं पता कि उनकी सरकार कब तक चलेगी इसलिए जनता से किए वादों को पूरा करने की वो भरसक कोशिश कर रहे हैं।

आज शाम को पांच बजे दिल्ली सचिवालय में कैबिनेट की बैठक है। केजरीवाल का कहना है कि उनकी सरकार के पास वायदे पूरे करने के लिए 48 घंटे से ज्यादा वक्त नहीं है, ऐसे में वे ज्यादा से ज्यादा काम निपटाना चाहते हैं। केजरीवाल ने कहा कि 4 बजे सीएजी से मुलाकात करूंगा। बिजली कंपनियों के ऑडिट को लेकर बातचीत करूंगा। उन्होंने कहा हमारे पास सिर्फ 48 घंटे का समय है मैं 48 घंटे के हिसाब से काम कर रहा हुं।

वहीं, केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस और बीजेपी सरकार गिरा सकती है। वहीं दूसरी ओर, कांग्रेस ने केजरीवाल के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हमारा इरादा सरकार गिराने का नहीं पता नहीं केजरीवाल ऐसा क्यों कह रहे है। हम 'आप' को सर्मथन करेंगे। उधर बीजेपी ने भी दिल्ली सीएम पर कहा कि केजरीवाल नाटक कर रहे है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You