मप्र जनजातीय संग्रहालय को 19 हजार से अधिक लोगों ने देखा

  • मप्र जनजातीय संग्रहालय को 19 हजार से अधिक लोगों ने देखा
You Are HereNational
Wednesday, January 01, 2014-3:52 AM

भोपाल: मध्यप्रदेश के जनजातीय संग्रहालय का गत छह माह में 19 हजार से अधिक दर्शकों ने अवलोकन किया है। इनमें 19239 भारतीय तथा 204 विदेशी दर्शक शामिल हैं। मध्यप्रदेश जनजातीय समुदायों की जीवन शैली तथा विविध कला संस्कृति का जीवन्त दर्शन कराता मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय  भारतीय दर्शकों सहित विदेशी दर्शकों तथा कला प्रेमियों को बडी संख्या में आकर्षित कर रहा है। इस सग्रंहालय का लोकार्पण राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 06 जून 2013 को किया था। जिसमें 06 जून से 06 जुलाई (एक महीने) तक आगन्तुकों से प्रवेश शुक्ल निर्धारित है।

 

07 जुलाई 2013 से 31 दिसंबर तक करीब 19239 भारतीय दर्शकों ने संग्रहालय का अवलोकन किया। इस दौरान लगभग 204 विदेशियों ने जनजातीय कला के प्रति रुझान दिखते हुए संग्रहालय का अवलोकन किया। यह संग्रहालय मध्यप्रदेश की आदिवासी कलाओं पर केन्द्रित है जिसमें प्रदेश में निवासरत जनजातीय समूहों की कला, संस्कृति परम्परा और जीवनोपयोगी शिल्पियों और रहन सहन तथा रीति-रिवाजों को प्रदर्शित किया है।

 

संग्रहालय का उद्देश्य यहां आने वाले जिज्ञासु और शोधार्थी के साथ पूरे प्रवेश की आदिवासी संस्कृति और कला परम्परा से परिचित कराना है। इसके अलावा संग्रहालय में विविध कलाओं जैसे गायन, वादन, जनजातीय तथा लोकगीत संगीत प्रदर्शनियों चिंत्राकन संवाद आदि को स्थान दिया जिसमें राज्य तथा भारत के विभिन्न कलाकारों ने प्रतिभागी कर जनमानस को बहुआयामी कलाओं से अवगत कराया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You