श्रीधर बाबू से छीना विधायी मामलों का विभाग

  • श्रीधर बाबू से छीना विधायी मामलों का विभाग
You Are HereNcr
Wednesday, January 01, 2014-9:54 AM

हैदराबाद: आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन किरण कुमार रेड्डी ने पृथक तेलंगाना राज्य के गठन के हिमायती जन आपूर्ति मंत्री श्रीधर बाबू को दिए गए अतिरिक्त विधायी मामलों के विभाग को उनसे छीनकर एकीकृत राज्य के पैरोकार एस सैलजानाथ को सौंप दिया है। श्रीधर बाबू को इसकी जगह वाणिज्य विकास विभाग सौंपा गया है। सीमांध्र नेता श्री सैलजानाथ स्कूली शिक्षा मंत्री हैं और पिछले कुछ समय से एकीकृत  आंध्रप्रदेश के समर्थन में जोर शोर से लगे हैं जबकि श्रीधर बाबू सदन में तेलंगाना विधेयक को पेश करने वाले नेता हैं।

 

यह विधेयक हाल के विधानसभा सत्र में विधानसभा अध्यक्ष नन्देला मनोहर के समक्ष पेश किया गया था लेकिन सीमांध्र नेताओं के जोरदार विरोध के कारण इस पर बहस नहीं हो सकी थी। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने गत 12 दिसंबर को आंध्रप्रदेश पुनर्गठन विधेयक के मसौदे को राज्य विधानसभा में भेज दिया था लेकिन इसे 16 दिसंबर को ही विधानसभा में पेश किया जा सका। कुछ ही दिन में इस पर विधानसभा में चर्चा होने वाली है और ऐसी स्थिति में रेड्डी के ऐसे कदम से सियासी हलचल बढ गई है।

 

हालांकि श्रीधर बाबू ने खुद को इस खबर से अनभिज्ञ बताया है। उन्होंने कहा कि उन्हें आधिकारिक रूप से विभाग बदले जाने की सूचना नहीं मिली है और वह मीडिया में इस संबंध में आई खबरों से हैरान हैं। रेड्डी के इस कदम के विरोध में तेलंगाना कार्यकर्ताओं और श्रीधर बाबू के समर्थकों ने  तेलंगाना के करीमनगर में आज बंद का आह्वान किया है। करीमनगर में आज दुकानें, व्यावसायिक प्रतिष्ठान और शैक्षणिक संस्थाएं बंद रहीं और सड़कों पर राज्य परिवहन निगम की बसें नहीं उतारी गईं।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You