विधानसभा में विधायकों ने ली स्थानीय भाषा में शपथ

  • विधानसभा में विधायकों ने ली स्थानीय भाषा में शपथ
You Are HereNational
Wednesday, January 01, 2014-7:38 PM

नई दिल्ली (कुमार गजेन्द्र): दिल्ली विधानसभा में सरकार के पहले सत्र में भारतीय भाषाओं के विविध रंग देखने को मिले। 5वीं विधानसभा में निर्वाचित होकर आए विधायकों ने शपथ ली। कुल 70 विधायकों में से कई विधायक ऐसे थे, जिन्होंने अपनी स्थानीय भाषा में शपथ ली।

इन विधायकों में अनिल झा ऐसे विधायक थे, जिन्होंने पुराने होने के बाद भी उन्होंने अपनी भाषा में ही शपथ ली। अनिल झा धोती कुर्ता पहन और सिर पर गुलाबी रंग की टोपी भी लगाकर आए थे। नरेला से भाजपा के टिकट पर जीतकर आए जाट नेता नीलदमन खत्री केसरिया रंग की पगड़ी पहने हुए थे।

उधर महरौली में कांग्रेस के विधानसभा अध्यक्ष योगानंद शास्त्री को हराने वाले और भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा के बेटे प्रवेश वर्मा भी जयपुरिया पगड़ी पहनकर शपथ लेने आए थे। प्रवेश वर्मा जब शपथ लेने आए तो भाजपा व कांग्रेस के सभी विधायकों ने मेज थपथपाकर उनका स्वागत किया। शपथ लेने के बाद प्रवेश भी बारी-बारी से सभी नेताओं की सीट पर जाकर उनसे मिले।
 
विधानसभा के शपथ ग्रहण समारोह में 15वें नंबर पर शपथ लेने आए अनिल झा ने मैथिली में भाषा में शपथ ली। इससे पहले उन्होंने शपथ के दौरान पढ़े जाने वाले पूरे शपथ पत्र को अपनी कलम से मैथिली में तब्दील कर लिया था, जिसे उन्होंने डायस पर आकर पढ़ा।

भारतीय जनता पार्टी के लगभग सभी विधायकों ने हिंदी में शपथ ली। वहीं भाजपा के रिठाला से विधानसभा के टिकट पर जीतकर आए नंद किशोर गर्ग ने संस्कृत में शपथ ली।

कांग्रेस के पूर्व बिजली व खाद्य आपूर्ति मंत्री हारून यूसुफ और पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष शोएब इकबाल ने उर्दू में शपथ ली। वहीं राजेन्द्र नगर से पहली बार जीतकर आए भाजपा के आर.पी. सिंह ने गुरमुखी में शपथ ली। आप के सुरेन्द्र सिंह आर्मी जैकेट पहनकर आए थे। होटल ताज, मुंबई पर हुए हमले में वह घायल हुए थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You