सात सर्जरी के बाद डिस्चार्ज हुई बेबी रूना

  • सात सर्जरी के बाद डिस्चार्ज हुई बेबी रूना
You Are HereNational
Friday, January 03, 2014-2:07 PM

नई दिल्ली (साक्षी): सामान्य से कहीं अधिक सिर के आकार को लेकर सुर्खियों में आई बेबी रूना शुक्रवार को दिल्ली एनसीआर के गुडग़ांव स्थित फोर्टिस अस्पताल से डिस्चार्ज कर दी गई। काफी हद तक सर्जरी के बाद उसके सिर का आकार कम कर दिया गया।

रूना की आखिरी सर्जरी 29 नवम्बर को शुरू की गई जिसके बाद उसके सिर का साइज अब काफी हद तक घट चुका है। रूना का इलाज करने वाली टीम के  डा. संदीप वैश्य मानते हैं कि अब ज्यादा दबाव देना या फिर सर्जरी में कुछ और करना सही नहीं है। इसलिए अब उसे यहां से छुट्टी दी जा रही है। उन्हें नहीं लगता कि रूना के सिर का साइज इससे ज्यादा कम हो पाएगा। डॅा. संदीप ने कहा कि यह पहला केस देश में उनके सामने आया, जो कि काफी चुनौती भरा था। फिर भी मेहनत की गई और उसमें काफी हद तक सफलता हासिल हुई।

सिर का साइज तो हुआ कम लेकिन शारीरिक रूप तंदुरुस्त नहीं हैं रूना:
डा. संदीप वैश्य ने कहा कि उसके सिर का साइज तो कम हुआ है, लेकिन शारीरिक रूप से वह तंदुरुस्त नहीं कही जा सकती। क्योंकि उसका शरीर मजबूत नहीं है। दिमागी रूप से रूना कितनी सक्षम है या भविष्य में रहेगी के सवाल पर डॉक्टर ने कहा कि इस बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।

हां, उसकी आंखों की रोशनी पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा था, जो कि कुछ समय बाद सही हो गया। सर्जरी के बाद अब वह खुद से हिल-डुल लेती है और चारों तरफ लेटे-लेटे घूम सकती है। उन्होंने कहा कि रूना की जिंदगी को कोई खतरा नहीं पर उसका जीवन चक्र कैसे चलेगा, यह समय की बात है।

फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च अस्पताल ने की पहल :
करीब ढ़ाई साल की रूना बेगम का जन्म त्रिपुरा के एक छोटे से गांव में मोहम्मद अब्दुल रहमान और फातिमा बेगम के घर हुआ। 22 नवम्बर 2011 को जन्मी रूना बेगम का जन्म के बाद से ही सिर असामान्य हो गया। गरीब परिवार में पैदा होने की वजह से परिजन उसका उपचार कराने में असमर्थ रहे उन्हें कुछ सूझ नहीं रहा था।

बच्ची के सिर का आकार इतना बड़ा होने की खबर जब मीडिया में आई तो उसके उपचार की सारी जिम्मेदारी फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च अस्पताल की ओर से उठाई गई। यहां उसे उपचार के लिए सबसे पहले 16 अप्रैल 2013 को लाया गया। रूना का उपचार कर रहे न्यूरोसर्जन डॉ. संदीप वैश्य ने कहा कि भर्ती किए जाने के दौरान रूना के सिर का साइज 94 सेंटीमीटर था।

वह हाइड्रोफोलिसिस नामक बीमारी से पीड़ित थी। सभी शारीरिक जांच के बाद उसका उपचार शुरू किया गया। 15 मई 2013 को उसके सिर से काफी मात्रा में तरल पदार्थ निकाला गया। इसी बीच उसकी सर्जरी भी की गई। तब जाकर उसके सिर का साइज 36 इंच घटकर 58 सेंटीमीटर रह गया।

 11 जुलाई 2013 को उसके सिर पर बैंडेज के माध्यम से दबाव देकर उसके सिर का साइज और कम किया गया। अस्पताल में 105 दिन तक उपचाराधीन रहने के बाद रूना को एक अगस्त को छुट्टी दी गई। इसके बाद बीते माह रूना को 29 नवम्बर 2013 को यहां फिर से भर्ती कराया गया।

इलाज से रूना के माता और पिता खुश :
रूना के पिता मोहम्मद अब्दुल रहमान से उनकी बेटी रूना को लेकर जब सवाल किये गए तो खुश भी दिखे और थोड़े दुखी भी। उन्होंने कहा कि शुरू में उनकी बेटी को देखकर लोग डरते थे। उनके पास आने से कतराते थे। क्योंकि उसका सिर बहुत बड़ा था। अब ऐसा नहीं है।

मां-बाप होने के नाते वह और उनकी पत्नी फातिमा बेगम ने रूना को हमेशा सामान्य बच्चों की तरह लाड़-प्यार दिया। उन्हें कभी डर नहीं लगा। यहां से जाने के सवाल पर अब्दुल रहमान ने कहा कि वह अपनी मर्जी से यहां से जा रहे हैं। डॉक्टर्स ने उन्हें कहा है कि उम्र बढऩे के बाद फिर से देखा जाएगा कि क्या करना है। बिना कोई खर्च के यहां इलाज होने पर उन्होंने अस्पताल के डाक्टरों का आभार जताया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You