यौन प्रताडऩा के आरोपी न्यायमूर्ति गांगुली का NUJS से इस्तीफा

  • यौन प्रताडऩा के आरोपी न्यायमूर्ति गांगुली का NUJS से इस्तीफा
You Are HereNational
Friday, January 03, 2014-8:35 PM

कोलकाताः कानून की प्रशिक्षु युवती के यौन प्रताडऩा के आरोपी सेवानिवृत्त न्यायाधीश ए.के. गांगुली ने शुक्रवार को राष्ट्रीय न्यायिक विज्ञान विश्वविद्यालय (एनयूजेएस) के गेस्ट फैकल्टी के पद से इस्तीफा दे दिया। गांगुली ने विश्वविद्यालय के कुलपति पी. ईश्वर भट्ट को लिखे पत्र में कहा, ‘‘मैंने इस पद से स्वेच्छा से हटने का फैसला किया है। मैं गेस्ट फैकल्टी के तौर पर सेवा जारी नहीं रखना चाहता और एनयूजेएस पर भार नहीं बनना चाहता।’’

विश्वविद्यालय एनयूजेएस ने गुरुवार को कहा था कि गांगुली पर आरोप लगने के बाद उसने खुद को उनसे अलग कर लिया है। विश्वविद्यालय के प्रवक्ता ने कहा, जब से यह मामला आया है, वह विश्वविद्यालय की संरचना में नहीं है। गांगुली वर्तमान में पश्चिम बंगाल मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष हैं। गुरुवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने गृह मंत्रालय के राष्ट्रपति रेफरेंस के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।

प्रस्ताव को अब राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा जो इसे प्रधान न्यायाधीश को जांच के लिए भेजेंगे। इससे पहले सर्वोच्च न्यायालय की तीन सदस्यीय समिति ने अपनी जांच में गांगुली को दोषी करार दिया था। गांगुली पर मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष पद से इस्तीफे का दबाव है। इसे लेकर पिछले कुछ दिनों में राष्ट्रव्यापी चर्चा होती रही है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी गांगुली को पद से हटाने की मांग कर चुकी हैं। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You