प्रधानमंत्री पद के लिए राहुल के नाम की घोषणा औपचारिकता मात्र: कांग्रेस

  • प्रधानमंत्री पद के लिए राहुल के नाम की घोषणा औपचारिकता मात्र: कांग्रेस
You Are HereNational
Friday, January 03, 2014-10:48 PM

नई दिल्ली: राहुल गांधी का कांग्रेस पार्टी का प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित होना अब महज औपचरिकता नजर आ रही है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा यह घोषणा किये जाने के बाद कि वह लोकसभा चुनावों के बाद इस पद की दौड़ से बाहर रहेंगे, कांग्रेस ने आज यह संकेत दिया।

पार्टी महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘एक सिद्धांत होता है और एक कर्मकांड होता है। जहां तक सिद्धांत की बात है, पूरी पार्टी, पूरा विश्व जानता है कि कांग्रेस में जब कभी भी प्रधानमंत्री पद का सवाल उठेगा, राहुल गांधी का नाम सबसे पहले आयेगा। लेकिन राजनीतिक दलों की कुछ औपचारिकताएं होती है, एक प्रक्रिया है। उन्होंने कहा, ‘‘कब ये औपचारिकताएं होंगी, कब घोषणा की जायेंगी ये ऐसी चीजें हैं जिस पर पार्टी के लिए तब आधिकारिक रूप से कुछ कहने की गुंजाइश नहीं रह जाती जब सोनिया गांधी पहले ही यह कह चुकी हैं कि पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा उचित समय पर की जायेगी।’’

ऐसी अटकलें लगायी जा रही है कि पार्टी 2014 के लोकसभा चुनावों के लिए अपने पीएम उम्मीदवार की घोषणा 17 जनवरी को एआईसीसी की बैठक के पहले भी कर सकती है। हालांकि पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने इस पर टिप्पणी करने से इंकार किया। एआईसीसी की बैठक के लिए प्रस्तावों को अंतिम रूप देने के वास्ते कांग्रेस कार्य समिति की बैठक 16 जनवरी को होगी। पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर हालांकि कहा कि कोई जरूरी नहीं कि किसी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने के बारे में फैसला सीडब्ल्यूसी की बैठक में किया जाये क्योंकि यह ऐसी चीज है जिसे सीधे एआईसीसी की बैठक में भी उठाया जा सकता है। ऐसी अटकलें तेज हैं कि एआईसीसी की बैठक में राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद का पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया जा सकता है।

संवाददाताओं से बातचीत करते हुए द्विवेदी ने इसे एक अनावश्यक सवाल बताया कि क्या राहुल गांधी के अलावा किसी और को पार्टी का पीएम उम्मीदवार बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने हमेशा यह कहा है कि सोनिया गांधी के बाद पार्टी में राहुल गांधी दूसरा स्थान रखते हैं । कांग्रेस में प्रधानमंत्री पद के बारे में जब कभी सवाल आता है पूरी पार्टी यह देखना चाहेगी कि राहुल गांधी इस पद पर बैठें। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन जब तक आधिकारिक रूप से यह फैसला नहीं लिया जाता, पार्टी इसके अलावा कुछ नहीं कहेगी कि पार्टी में सोनिया गांधी के बाद राहुल आते हैं।

प्रधानमंत्री ने आज अपने विशेष संवाददाता सम्मेलन में कहा कि चुनाव के बाद मैं नए प्रधानमंत्री को कार्यभार सौंप दूंगा। द्विवेदी ने इस सवाल को भी खारिज कर दिया कि क्या पार्टी को अभी भी राहुल गांधी की क्षमता पर भरोसा है कि हाल के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली भारी पराजय के मद्देनजर आगामी चुनावी संग्राम में वह कुछ कर पायेंगे। उन्होंने कहा, यह बहुत ही संकीर्ण दृष्टि है। इसे इस नजरिये से नहीं देखा जाना चाहिए। चुनावों में हार जीत सामान्य बात है। कांग्रेस जैसी पार्टियां इस तरह की चीजों से दुखी नहीं होती।

कांग्रेस महासचिव ने इस सवाल को भी कोई खास तवज्जो नहीं दिया कि क्या अगले लोकसभा चुनाव के लिए पीएम पद का उम्मीदवार घोषित करने के मामले में पार्टी काफी पीछे नहीं चल रही है। यह पूछे जाने पर कि 2014 के बाद पार्टी ने प्रधानमंत्री के लिए क्या नयी भूमिका सोची है द्विवेदी ने कहा कि यह सब इस बात पर निर्भर करेगा कि उस वक्त स्थितियां कैसी बनती है और प्रधानमंत्री अपने लिए किस तरह की भूमिका चाहते हैं । पहले उनको चुनना होगा फिर यह हमपर निर्भर करेगा। द्विवेदी ने सत्ता के दो केन्द्र की परिभाषा को कोई तवज्जो नहीं देने का प्रयास करते हुए कहा कि सत्ता के दाहरे केन्द्र की परिभाषा गलत है क्योंकि लोकतंत्र में सरकार की बजाय पार्टी का स्थान उपर है। पार्टी चुनाव लड़ती है और अपना नेता, अपना प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री उम्मीदवार तय करती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You