'आप' की हरकतों से कार्यकर्ताओं में निराशा

  • 'आप' की हरकतों से कार्यकर्ताओं में निराशा
You Are HereNational
Saturday, January 04, 2014-2:39 PM

जयपुर: दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) की  सरकार के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मंत्रियों द्वारा सरकारी सुविधाएं लेने पर पार्टी के चहेतों को गहरा आघात लगा है तथा कार्यकर्ताओं का मानना है कि राजनीति में उलझे तो उनकी भी दुर्गति हो कर रहेगी। आप सरकार की सादगी और सद्भाव को देख कर आम आदमी को राजनीति में नई परिभाषा गढने की उम्मीद जागी थी लेकिन सरकार बनने के तत्काल बाद ही मंत्रियों को गाडी घोडे लेने की जल्दबाजी से यह अहसास हुआ कि राजनीति अपना असर दिखाये बिना नही रहती।
 
दिल्ली में आप की सरकार बनने के बाद राजस्थान में भी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के विकल्प के रप में आप पार्टी के उभरने की उम्मीद की जा रही थी लेकिन अब इस पर असर पड़ता दिखाई दे रहा है। राज्य में आप का इतना असर दिखाई देने लगा है कि सड़कों पर अब कई लोग आप की टोपी पहने घूम रहे हैं तथा चौक चौराहों पर बातचीत का केन्द्र बिन्दू भी आप ही बना हुआ है। पहली बार आम लोगों को यह लगा कि राजनीति धन बल और बाहुबलियों से निकल कर आम आदमी की पहुंच में आ रही है1 जो लोग राजनीति में आने के लिए अब तक प्रयास कर रहे थे उन्हें भी अपना सपना साकार होता दिखाई दे रहा है।

आप के कार्यकर्ताओं को लगे झटके के बीच यह भी माना जा रहा है कि शुरुआती दौर में अडचनें आ जाती हैं तथा जल्द ही सब कुछ ठीक हो जाएगा। इन कार्यकर्ताओं का मानना है कि वे उचित मंच पर इस मामले को उठाएंगे ताकि आम पार्टी अपने महान उद्देश्य से भटक न  जाए तथा पूरे देश का नेतृत्व करे।
 
आप पार्टी के कार्यकर्ता राजेश का मानना है कि कांग्रेस से समर्थन लेने के बाद सरकार चलाने के लिये कुछ समझौते जरुर करने पडेंगे तथा इसके परिणाम कुछ गलत भी आ सकते हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के सामने आगामी लोकसभा चुनाव में कुमार विश्वास के चुनाव लडने की घोषणा के बाद पार्टी के नेता योगेन्द्र यादव द्वारा इस पर सशंय पैदा करने की वजह भी यही मानी जा रही है कि आप पार्टी अभी से दबाब में आती दिखाई दे रही है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You