जम्मू और कश्मीर बैंक को विदेशों में भी शाखाएं खोलनी चाहिए: उमर

  • जम्मू और कश्मीर बैंक को विदेशों में भी शाखाएं खोलनी चाहिए: उमर
You Are HereNational
Saturday, January 04, 2014-4:14 PM

जम्मू: जम्मू और कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने राज्य के जम्मू और कश्मीर बैंक के लिए अगले 25 वर्षो की कार्ययोजना तैयार करने पर जोर देते हुये कहा कि बैंक को वैश्विक स्तर पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए विदेशों में भी अपनी शाखायें खोलनी चाहिये। उमर ने कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि अगले कुछ महीनों के दौरान जम्मू और कश्मीर बैंक का प्रबंधन अगले 25 सालों के लिये बैंक की कार्ययोजना तैयार कर लेगा। बैंक को यह सोचना होगा कि अगले 25 साल के लिये उसकी योजना क्या होगी। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि जब तक मैं यहां हूं, आपका समर्थन करूंगा।’’

उमर कल यहां बैंक की प्लेटिनम जुबली समारोह में पर बोल रहे थे। इस समारोह में जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल एन.एन. वोहरा मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि बैंक को भविष्य पर नजर रखते हुये अपनी कार्ययोजना तैयार करनी चाहिये और उसे यह देखना चाहिये कि बैंक की 100वीं सालगिरह पर उसका स्वरूप कैसा होना चाहिये और फिर इस दिशा में काम शुरू कर देना चाहिये। अब्दुल्ला ने कहा कि इसके साथ ही बैंक को अपने कुछ अल्पकालिक लक्ष्य भी तय करने चाहिये। कृषि क्षेत्र को समर्थन, उद्यमियों, छोटे किसानों, व्यापारियों, कलाकारों और युवाओं को कर्ज समर्थन के लिये भी योजनायें बनानी चाहिये।

अमर अब्दुल्ला ने इस अवसर पर वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के उन विचारों का समर्थन किया कि जम्मू और कश्मीर बैंक को अब भारत की सीमाओं से बाहर भी देखना चाहिये और विदेशों में कारोबार का विस्तार करना चाहिये।  उमर ने सवालिया लहजे में कहा कि क्या बैंक आने वाले महीनों में लंदन, दुबई, न्यूयार्क, हांगकांग और सिंगापुर में शाखायें खोलेगा? उन्होंने कहा कि बैंक की प्लेटिनम जुबली ने बैंक के समक्ष स्वर्णिम अवसर उपलब्ध कराया है, इसका लाभ उठाया जाना चाहिये।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You