VVIP हेलिकॉप्टर घोटाले में ब्रिगेडियर के खिलाफ मामला दर्ज

  • VVIP हेलिकॉप्टर घोटाले में ब्रिगेडियर के खिलाफ मामला दर्ज
You Are HereNational
Sunday, January 05, 2014-9:18 AM

नई दिल्ली: वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदा घोटाला से जुड़े एक प्रकरण में सीबीआई ने सैन्य उड्डयन कोर के लिए काम कर रहे एक बिग्रेडियर के खिलाफ हेलिकॉप्टर के परीक्षण उड़ान रिकॉर्ड में कथित तौर पर हेर-फेर करने के लिए आज एक मामला दर्ज किया।

सीबीआई ने ब्रिगेडियर वी एस सैनी और सेना और रक्षा मंत्रालय के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया जब एजेंसी को इतालवी पुलिस से नए दस्तावेज मिले। सैनी के खिलाफ आधिकारिक पद के दुरपयोग समेत भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की विभिन्न धाराओं और जालसाजी समेत भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

सीबीआई के अनुसार ब्र्रिगेडियर सैनी उस दल का हिस्सा थे जो लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर में प्रतिस्पर्धी हेलिकॉप्टरों का परीक्षण कर रहा था। सैन्य उड्डयन अपने पुराने पड़ रहे चीता और चेतक बेड़े की जगह 197 हेलिकॉप्टरों को खरीदने की सोच रहा था। चीता और चेतक हेलिकॉप्टर सियाचिन, लद्दाख, उत्तर कश्मीर और पूर्वोत्तर में अग्रिम और उंचाई वाले क्षेत्रों में टोह और हताहतों को निकालने के अभियान में लगाए जाते हैं।

197 हेलिकॉप्टरों की खरीद की प्रक्रिया दिसंबर 2007 में अंतिम रूप दिए जाने के बाद रद्द कर दी गई थी। इतालवी अभियोजकों ने वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाले की जांच के दौरान जब्त किए गए दस्तावेजों में ब्रिगेडियर सैनी के नाम का उल्लेख पाया था। सीबीआई ने अपने मामले में कहा कि अधिकारी ने कथित तौर पर एक कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए हेलिकॉप्टर के उड़ान परीक्षण रिकॉर्ड में हेराफेरी की। उसके लिए सैनी और अन्य अज्ञात अधिकारी को भारी कमीशन मिला।

इतालवी जांच अधिकारियों ने दावा किया है कि उन्हें एक दस्तावेज मिला है जिसमें दावा किया गया है कि ब्रिगेडियर ने कथित तौर पर अगस्ता वेस्टलैंड के पक्ष में साल 2010 में 50 लाख डॉलर का सौदा कराने के लिए रिश्वत मांगी थी। कंपनी को बाद में इस दौड़ से बाहर कर दिया गया था। रक्षा मंत्री ए के एंटनी की अध्यक्षता वाली रक्षा अधिग्रहण परिषद ने मामले में जांच पूरी होने तक हेलिकॉप्टरों की खरीद रोक दी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You