गैस के मूल्य निर्धारण के लिए एकजुट हों एशियाई देशः मनमोहन

  • गैस के मूल्य निर्धारण के लिए एकजुट हों एशियाई देशः मनमोहन
You Are HereNational
Saturday, January 04, 2014-11:52 PM

कोच्चिः प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज कहा कि हाल में एशिया द्रवित प्राकृतिक गैस (एलएनजी) की  वैश्विक मांग का मुख्य कारक बन गया है इसीलिए अब सभी एशियाई देशों को एशिया के बाहर से आयात होने वाले गैस के मूल्यनिर्धारण के लिये एक उपयुक्त प्रक्रिया तय करनी चाहिए।

श्री सिंह ने यहां 4500 करोड रूपये की लागत से निर्मित पेट्रोनेट एलएनजी टर्मिनल को देश को समर्पित करते हुए कहा कि एक दिन भारत भविष्य में प्रक्रिया तय करने की दिशा में जरूर कदम उठाएगा। उन्होंने कहा, एशिया में एलएनजी की खपत अधिक है इसीलिए अब यह जरूरी है कि एशिया में एलएनजी के सभी बडे खरीदार एक साथ मिलकर एशिया के बाहर से आयातित गैस का उचित कीमत निर्धारण तय करने की प्रक्रिया बनाने की मांग करें। प्राकृतिक गैस का आयात और आयातित गैस का मूल्य निर्धारण मुख्य चुनौतियां हैं जिससे हमें आने वाले समय में एकजुट होकर निपटना है।

श्री सिंह ने कहा कि देश में प्राकृतिक गैस का एक प्रतिशत से कम का ज्ञात स्रोत है। इसलिए प्राकृतिक गैस की आपूर्ति पूरी करने  के लिए हमें या एलएनजी टर्मिनल स्थापित करके या अंतर्रदेशीय पाइपलाइन बिछाकर इसका आयात करना होगा। इस अवसर पर केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस सचिव और पेट्रोनेट एलएनजी के अध्यक्ष विवके राय ने भी संबोधन दिया। केरल के राज्यपाल निखिल कुमार, मुख्यमंत्री उम्मन चांडी, केंद्रीय खाद्य राज्य मंत्री के वी थामस और केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्य मंत्री पी लक्ष्मी भी उपस्थित थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You