‘गगन’ का पहला चरण डीजीसीए से प्रमाणित

  • ‘गगन’ का पहला चरण डीजीसीए से प्रमाणित
You Are HereNational
Sunday, January 05, 2014-12:12 PM

नई दिल्ली: नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने भारत के विशाल हवार्ई क्षेत्र, उसके पड़ोसियों तथा आसपास उच्च समुद्री क्षेत्रों में उपग्रह आधारित हवाई नौवहन के लिए मार्ग प्रशस्त करते हुए महात्वाकांक्षी नौवहन प्रणाली ‘गगन’ के पहले चरण को प्रमाणित कर दिया है। ‘जीपीएस एडेड जियो ऑगमेंटेड नेविगेशन’ (गगन) प्रणाली को प्रमाणित किया जाना इसके अगले कुछ महीनों में पूरी तरह संचालित होने की दिशा में एक बड़ा कदम है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि डीजीसीए की ओर से गगन के पहले चरण का प्रमाणन इस सप्ताह किया गया। सूत्रों ने कहा कि प्रमाणन प्रक्रिया पिछले साल अक्तूबर में शुरू हुई थी और इस प्रणाली को लेकर कई तकनीकी पहलुओं और दस्तावेजों की जांच की गई। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) तथा भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की ओर से संयुक्त रूप से गगन को विकसित किया गया है।

गगन भारत के नौवहन दायरे को न सिर्फ राष्ट्रीय और पड़ोसी देशों के हवाई क्षेत्र के उपर तक विस्तार देगा, बल्कि हिंद महासागर, बंगाल की खाड़ी और अरब सागर के उपर के क्षेत्र पर भी इसका विस्तार होगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You