10 सालों से नाले में बह रहा जलबोर्ड का पानी

  • 10 सालों से नाले में बह रहा जलबोर्ड का पानी
You Are HereNational
Sunday, January 05, 2014-3:46 PM

नई दिल्ली (शैलेंद्र कुमार इंसान): पानी की बर्बादी कैसे करें, यह कोई दिल्ली जल बोर्ड प्रबंधन से सीखें। जंगपुरा से होकर गुजरने वाली जल बोर्ड के पाइप लाइन वॉल्व से अंधाधुंध पानी गिर रहा है। चौंकाने वाली बात तो यह है कि यह पानी कई महीनों या दिनों से नहीं बल्कि 10 सालों से गिर रहा है। यदि एक नल का टैब खुला रह जाए तो 5 मिनट में 25 से 30 लीटर पानी बर्बाद हो जाता है।

एक तरफ जहां दिल्ली में 40 फीसदी पानी की कमी बताई जाती है। वहीं, हर दिन हजारों लीटर पानी की बर्बादी सिर्फ एक पाइप लाइन वॉल्व से हो रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली और चेन्नई जैसे महानगरों में 44 प्रतिशत पानी यूं ही पाइप लाइन की वॉल्व से गटर या नालों में बह जाता है।पास में ही रहने वाले महेश बाल्मीकि ने कहा, ‘‘हम कई 10 सालों से इस वॉल्व से पानी गिरता हुआ देख रहे हैं। हमने कई बार इसकी शिकायत जलबोर्ड से की पर अभी तक किसी ने इसकी सुध नहीं ली।

अभी आप की सरकार बनी है और हम लोग आप वालों से जल्द ही इसको सही करवाने की मांग रखेंगे।’’ दिल्ली जल बोर्ड की प्रवक्ता संजुम चीना  के मुताबिक, जब जल बोर्ड पानी का छूटता  है तो उसमें काफी दबाब होता है। पाइप फटे न इसलिए हवा पास करने के लिए कुछ प्वांटर होते हैं, जहां से पानी के साथ एयर पास होने दिया जाता है। इस पानी को उपयोग लोग नहाने या अन्य कामों में करते हैं लेकिन जंगपुरा के बारे में हमें कोई जानकारी नहीं है।

राजधानी में पानी की जरूरत 427.5 करोड़ लीटर है, जबकि उपलब्धता है महज 337.5 करोड़ लीटर। इस शहर की पानी की जरूरत पूरी करने के लिए गंगा, यमुना, भाखड़ा नांगल बांध और रेणुका सागर बांध से पानी लिया जा रहा है। अगर पानी के संरक्षण पर ध्यान नहीं दिया गया तो राजधानी से कुछ ही सालों में भू-जल स्तर समाप्त हो जाएगा जो एक चिन्ता का विषय है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You