पर्यटन मेलों व उत्सवों को और अधिक आकर्षक बनाया जाए: मुख्यमंत्री

  • पर्यटन मेलों व उत्सवों को और अधिक आकर्षक बनाया जाए: मुख्यमंत्री
You Are HereNational
Wednesday, January 08, 2014-10:41 AM

जयपुर: मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने मुख्यमंत्री कार्यालय में पर्यटन विभाग की समीक्षा बैठक की जिसमें राज्य के विकास में पर्यटन क्षेत्र में आधारभूत सुविधाओं के विकास के लिए उपलब्ध संसाधनों का बेहतर उपयोग करने के निर्देश दिए। उन्होंने पर्यटन मेलों और उत्सवों को और अधिक आकर्षक बनाने पर बल दिया ताकि अधिकाधिक देशी-विदेशी पर्यटक राजस्थान की ओर आकर्षित हो सकें।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि जोधपुर से रामदेवरा के बीच पर्यटकों व श्रद्धालुओं को दुर्घटना रहित सुरक्षित मार्ग देने के उद्देश्य से हमारे पिछले कार्यकाल (2003-08) में कार्य शुरू किया गया था, जिसे पूर्ववर्ती सरकार ने बंद कर दिया था। उस वैकल्पिक सड़क मार्ग के विकास कार्य को पुन: शुरू किया जाए। उन्होंने विभाग की 60 दिन की कार्य योजना तथा आगामी 5 बरसों में राज्य में पर्यटन विकास के लिए तय किए गए लक्ष्यों पर विस्तृत प्रस्तुतीकरण देखा तथा अधिकारियों को समयबद्ध कार्यक्रम के अनुसार योजनाओं के सफल क्रियान्वयन के लिए दिशा-निर्देश दिए। 

उन्होंने कहा कि पर्यटन क्षेत्र में क्रियान्वित की जा रही योजनाओं का अधिकारी मौके पर जाकर अवलोकन करें तथा वहां पर्यटन सम्बन्धी आधारभूत सुविधाओं को विकसित करवाएं। उन्होंने पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण राजस्थान रॉयल तथा पैलेस ऑन व्हील पर्यटक रेलों में बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करवाने के साथ-साथ टूर पैकेज को आकर्षक बनाने पर जोर दिया ताकि प्रतिस्पर्धा के दौर में अधिकाधिक पर्यटक इन रेलों से राजस्थान के ऐतिहासिक स्थलों तथा यहां की सांस्कृतिक विविधता को देख सकें।

उन्होंने पर्यटन सूचना केन्द्रों का सुदृढ़ीकरण करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कुछ परियोजनाओं के फोटो एलबम भी देखे, जिनमें कार्य शुरू करने से पहले तथा पूर्ण करने  के बाद की स्थितियों के फोटोग्राफ देखकर उनकी प्रशंसा की।  मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न स्थलों में पर्यटन विभाग के तत्वावधान में आयोजित किए जाने वाले पर्यटक मेलों तथा जिला स्तर पर आयोजित पर्यटन उत्सवों को आकर्षक बनाया जाए।

पर्यटन विकास के लिए एगे्रसिव मार्कीटिंग करने, विभिन्न धार्मिक स्थलों पर पर्यटन को बढ़ावा देने, पर्यटन से रोजगार को जोडऩे, आमेर के हाथी गांव का समुचित विकास तथा वहां कालबेलिया लोक नृत्य के प्रशिक्षण की व्यवस्था करवाने, सवाई माधोपुर में शिल्पग्राम के सुदृढ़ीकरण के साथ ही राज्य के विभिन्न स्थलों पर बनी हवाई पट्टियों के पर्यटन की दृष्टि से उपयोग की संभावनाएं तलाशने के निर्देश अधिकारियों को दिए। 
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You