मासूम बच्चों की जान से खेलती स्कूल वैन

  • मासूम बच्चों की जान से खेलती स्कूल वैन
You Are HereNcr
Wednesday, January 08, 2014-2:57 PM

नई दिल्ली (सतेन्द्र त्रिपाठी): दिल्ली में स्कूली बच्चों की जान से खिलवाड़ करती अवैध वैन पर लगाम लगाने पाने में ट्रैफिक पुलिस असफल साबित हो रही है। इन वैन में बच्चों को ठूंस-ठूंस कर भरा जाता है। न किसी नियम की परवाह, न कानून की। आए दिन होने वाले हादसों से भी पुलिस व सरकार सबक नहीं ले पाई है।

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की स्कूल वैन को लेकर की गई कार्रवाई देखें तो वह ऊंट के मुंह में जीरा वाली कहावत को चरितार्थ करती नजर आती है। अब लोगों को नई आई दिल्ली की सरकार से उम्मीद है कि वह स्कूल वैन को लेकर जरुर सख्ती से कुछ करेगी। वैसे पुलिस का कहना है कि सख्ती करते हुए बहुत से स्कूलों के बाहर ही ट्रैफिक पुलिस को तैनात किया गया है।

वर्ष 2013 में दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के आंकड़ों में कार्रवाई पर ध्यान तो सामने आता है कि हजारों की तादात में चल रही स्कूल वैन में से सिर्फ 2088 को ही उन्होंने नियम-कानूनों के उल्लंघन का दोषी पाया। दिल्ली पुलिस का यह मामूली सा आंकड़ा साफ बता देता है कि पूरे साल पुलिस ने क्या किया। दिल्ली की सड़कों पर रोजाना ऐसी स्कूल वैनों में बच्चों को ले जाते देख लोग डर जाते है। लेकिन मजबूरी में उन्हें रोजाना अपने बच्चों की जान से खिलवाड़ करने वाले इन वैन में बच्चों को भेजना ही पड़ता है। वैन में 8 की जगह 16, तिपहिया में तीन की जगह 8 तक बच्चों को भर लिया जाता है।

दिल्ली में स्कूल वैन की मनमानियों को लेकर अभियान चलाने वाले एक गैर सरकारी संगठन के अध्यक्ष अनिल जैन बताते है कि उन्होंने सुबह स्कूल जाते वक्त व दोपहर को स्कूल से छुट्टी के वक्त सैंकड़ों स्कूल वैन चालकों की गड़बडिय़ों को फोटो खींचकर ट्रैफिक पुलिस अधिकारियों को भेजे थे। ताज्जुब की बात है कि किसी का कुछ नहीं हुआ।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You