'सैफई महोत्सव में मीडिया कैमरों पर रोक लगाना शर्मनाक'

  • 'सैफई महोत्सव में मीडिया कैमरों पर रोक लगाना शर्मनाक'
You Are HereNational
Thursday, January 09, 2014-1:23 AM

लखनऊः भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उत्तर प्रदेश ईकाई ने कहा है कि पूरा प्रदेश समस्याओं से कराह रहा है, जबकि सरकार सैफई महोत्सव में मस्त है। सरकार की मौजमस्ती कैमरे में कैद न हो इसलिए अब मीडिया कैमरों पर रोक लगाई जा रही है, जो बेहद ही शर्मनाक है।

उन्होंने कहा कि जिन दृश्यों के जनता में जाने से सरकार की जगहंसाई होने का अहसास है, इसी कारण सैफई महोत्सव में कैमरों पर रोक लगाई गई, वह काम ही अखिलेश सरकार क्यों कर रही है। प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि जनसमस्याओं के प्रति सरकार की लापरवाही का आलम यह है कि लोग ठंड से बेहाल हैं। सरकारी दावे के विपरीत कम्बल वितरण का कार्यक्रम दिखावा बन कर रह गया है। 

पाठक ने कहा कि कई शहरों में बनाए गए रैनबसेरे टूटे पड़े हैं। रैनबसेरे में कम्बल वितरण के कार्यक्रम के दौरान वाराणसी में हाथापाई पर उतारू मंत्री को सबने कैमरे पर देखा। जनसमस्याओं से मुंह चुराते अखिलेश सरकार के मंत्री सवालों पर भड़क रहे हैं। उन्होंने कहा कि मंत्री मौज मस्ती में मस्त है यह बात केवल विपक्ष ही नहीं खुद सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव कह चुके हैं।

इसे लेकर वह कई बार सपा नेताओं को नसीहत भी दे चुके हैं लेकिन लगता है उसका अब कोई असर नहीं हो रहा है। पाठक ने कहा कि जनसमस्याओं की अनदेखी अखिलेश सरकार पर भारी पडऩे वाली है। मीडिया के कैमरों, मीडियाकर्मियों पर चाहे जितना प्रतिबंध लगा दिए जाएं लेकिन सरकार की कारस्तानी जनता तक पहुंच रही है। यही कारण है कि पूर्ण बहुमत से चुनी गई यह सरकार जनता में लगातार अलोकप्रिय हो रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You