प्रवासी भारतीय सम्मेलन: ‘भारत को जानो’ कार्यक्रम के युवाओं की धूम

  • प्रवासी भारतीय सम्मेलन: ‘भारत को जानो’ कार्यक्रम के युवाओं की धूम
You Are HereNational
Thursday, January 09, 2014-1:59 PM

नई दिल्ली: अपनी जड़ों को तलाशती भारत आए प्रवासी भारतीयों की नई पीढ़ी अपने पूर्वजों की धरती एवं संस्कृति से रू-ब-रू होकर अभिभूत है और ‘‘भारत को जानो’’ कार्यक्रम को इस दिशा में एक ‘सेतु’ के रूप में देख रही है। ‘भारत को जानो’ कार्यक्रम के तहत प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन में हिस्सा लेने वाले युवा अभिभूत हैं। विभिन्न सत्रों के दौरान इन युवक-युवतियों ने विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद, संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री कपिल सिब्बल, पर्यटन मंत्री चिरंजीवी, राष्ट्रीय ज्ञान आयोग के अध्यक्ष सैम पित्रोदा आदि से तरह तरह के सवाल पूछ कर अपनी जिज्ञासा को शांत किया।

 

फिजी से सम्मेलन में हिस्सा लेने आए विनय विनीत सिंह ने कहा कि यह काफी खुशी की बात है कि हमें प्रवासी भारतीय सम्मेलन में हिस्सा लेने का मौका मिला है जहां हमें भारतीय युवाओं से न केवल विचार साझा करने बल्कि उन्हें देश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत से रूबरू होने का मौका मिला। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत दुनिया भर से 18 से 26 वर्ष आयु वर्ग के 40 युवक-युवतियों का चयन किया जाता है जो स्नातक स्तर की पढ़ाई कर रहे हों।

 

कनाडा की सुची ने कहा कि इस सम्मेलन में हिस्सा लेकर उन्हें भारत के आर्थिक पहलुओं से रू-ब-रू होने का मौका मिला साथ ही फिल्म, नृत्य, कला, संगीत समेत अन्य पहलुओं का साक्षात अनुभव करने का मौका मिला। दक्षिण अफ्रीका की मनीषा ने कहा कि इस कार्यक्रम में मलेशिया, अमेरिका, कनाडा, फिजी, दक्षिण अफ्रीका आदि देशों के युवाओं से विचारों का आदान प्रदान करने का मौका मिला।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You