शकील अहमद दंगों पर कल की अपनी विवादास्पद टिप्पणी पर कायम

  • शकील अहमद दंगों पर कल की अपनी विवादास्पद टिप्पणी पर कायम
You Are HereNational
Thursday, January 09, 2014-4:31 PM

नई दिल्ली: कांग्रेस के नेता शकील अहमद कल के अपने उस बयान पर कायम रहे कि जब भी इस देश में दंगे होते हैं, दो तरह के लोगों को खुशी होती है। पाकिस्तान में आईएसआई को और भारत में भाजपा को। अहमद ने आज ट्वीटर पर अपनी टिप्पणी में कहा, ‘‘ गिरफ्तार विधायकों को मोदी के मंच पर सम्मानित किये जाने के बाद भी कोई इस बात से कैसे इंकार कर सकता है कि दंगों पर भाजपा को खुशीहोती है।’’ अहमद ने यह टिप्पणी अपनी उस टिप्पणी के बाद की है जिसमें उन्होंने वस्तुत: भाजपा आईएसआई की तुलना कर डाली थी । उनकी इस टिप्पणी पर मुख्य विपक्षी दल ने जोरदार प्रतिक्रिया जताई थी।

विवाद कल उस वक्त शुरू हुआ जब अहमद ने एआईसीसी में संवाददाता सम्मेलन के दौरान ट्वीटर पर की गई अपनी एक पुरानी टिप्पणी पढकर सुनाई। अहमद ने कहा कि दंगों से समाज का ध्रुवीकरण होता है और इससे भाजपा को वोटों के मामले में फायदा होता है । जबकि भारत में मुसलमानों की रक्षा के नाम पर पाकिस्तान की आईएसआई को ‘‘40-42’’ देशों से ज्यादा फंड मिलता है। उन्होंने 2002 के गुजरात दंगों और 1984 के सिख विरोधी दंगों के बीच तुलना को भी खारिज किया । उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी की अंत्येष्टि से पहले से दंगों पर नियंत्रण करने के प्रयास में राजीव गांधी सड़कों पर थे। उधर, भाजपा प्रवक्ता निर्मला सीतारमण ने ट्विट किया, ‘‘1984 के सिख विरोधी दंगों और नरसंहार के दौरान भाजपा ने विरोध किया और कांग्रेस ने खुशिया मनाई। अब कोई पुनर्विचार ? घाटी में कश्मीरी पण्डितों के नस्ली सफाए पर आईएसआई खुश हुई, भाजपा ने विरोध किया और कांग्रेस निस्सहाय थी।’’
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You