मोदी का उ.प्र. से चुनाव लडऩा अभी तय नहीं: शाह

  • मोदी का उ.प्र. से चुनाव लडऩा अभी तय नहीं: शाह
You Are HereNational
Thursday, January 09, 2014-8:52 PM

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी के उत्तर प्रदेश से चुनाव लडऩे की अटकलों के बीच पार्टी के प्रदेश प्रभारी अमित शाह ने आज कहा कि अभी इस बारे में कोई निर्णय नहीं लिया गया है। शाह ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में एक सवाल पर कहा कि अभी यह तय नहीं हुआ है कि मोदी कहां से चुनाव लड़ेंगे।

आम आदमी पार्टी (आप) को लोकसभा चुनाव में बड़ी सफलता मिलने का दावा करने वाले एक सर्वेक्षण के बारे में पूछे जाने पर शाह ने बताया कि वह इस पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे। हालांकि इतना जरूर कहेंगे कि पूर्व में हुए सर्वेक्षणों में भी मोदी को स्पष्ट बहुमत ना मिलने की बात कही गई थी लेकिन हर बार मोदी बहुमत पाने में सफल रहे थे। लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश से पार्टी के प्रत्याशियों की नाम की घोषणा के बारे में शाह ने कहा कि चुनाव की तैयारियां जोरों पर हैं और संसदीय बोर्ड उम्मीदवारों के नाम घोषित करेगा। उन्होंने कहा कि पार्टी किसी भी अपराधी को टिकट नहीं देगी।

शाह ने बताया कि पिछड़ों को आकर्षित करने के लिये पार्टी आगामी 15 फरवरी से 15 मार्च के बीच सामाजिक न्याय मोर्चा की बैठकें आयोजित की जाएंगे। आप को भाजपा के लिए चुनौती बनने के बारे में पूछे गये सवाल पर शाह ने कहा कि भाजपा हर प्रतिद्वंद्वी को चुनौती मानती है। प्रदेश की सपा सरकार पर हमला करते हुए कहा कि मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपी वर्ग विशेष के लोगों से मुकदमे वापस लेना तुष्टीकरण की पराकाष्ठा है।

जासूसी प्रकरण में केन्द्र ने नहीं बनाया कोई आयोग: शाह

लखनऊः गुजरात के पूर्व गृह मंत्री अमित शाह ने आज यहां दावा किया कि अवैध रूप से जासूसी कराने सम्बन्धी प्रकरण की जांच के लिये केन्द्र ने अभी तक कोई आयोग गठित नहीं किया है। शाह ने यहां संवाददाताओं से कहा ‘‘जहां तक मेरी जानकारी है तो केन्द्र ने कोई आयोग नहीं गठित किया है।’’

शाह से पूछा गया था कि क्या जासूसी प्रकरण की जांच के लिये गठित आयोग ने उन्हें इस मामले में पूछताछ के लिये बुलाया था। यह पूछे जाने पर कि निलम्बित आईएएस अधिकारी प्रदीप शर्मा की अर्जी पर गुजरात पुलिस ने उनके तथा वहां के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ मुकदमा दायर नहीं किया, उन्होंने कहा यह कहते हुए जवाब टाल दिया ‘‘उन्होंने जहां शिकायत दी है वही जानें।’’

गौरतलब है कि गत दिसम्बर में केन्द्र सरकार ने वर्ष 2009 में गुजरात सरकार द्वारा एक महिला की कथित रूप से जासूसी कराये जाने के आरोपों की जांच के लिये एक न्यायिक आयोग गठित करने को कहा था। इस मामले में शाह पर भी आरोप लगे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You