1984 सिख विरोधी दंगा: सज्जन कुमार और तीन अन्य के खिलाफ अदालती सुनवाई शुरू

  • 1984 सिख विरोधी दंगा: सज्जन कुमार और तीन अन्य के खिलाफ अदालती सुनवाई शुरू
You Are HereNational
Friday, January 10, 2014-9:24 PM

नई दिल्ली: तीस साल पुराने सिख विरोधी दंगे में कांग्रेस नेता सज्जन कुमार और तीन अन्य की संलिप्तता से जुड़े एक मामले की आज यहां एक अदालत में सुनवाई शुरू हुई और दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी का बयान दर्ज किया गया है। जिला न्यायाधीश जे आर आर्यन ने अभियोजन पक्ष के गवाह विश्वेंद्र का बयान दर्ज किया। उपराज्यपाल के निजी सचिव विश्वेंद्र उस समय गृहमंत्रालय में उप सचिव थे जब इस मामले में आरोपी पर मुकदमा चलाने की मंजूरी दी गयी थी।

अदालत ने विश्वेंद्र को 15 जनवरी को उन रिकार्डों को लाने को कहा जिनसे पता चलता हो कि यह मामला उपराज्यपाल के पास मंजूरी के लिए भेजी गयी थी और उन्होंने ने सहमति दी थी।  सज्जन कुमार के वकील अनिल शर्मा ने जिरह के दौरान विश्वेंद्र से उपराज्यपाल की मंजूरी से जुड़े सबूत पेश करने की मांग की। विश्वेंद्र की गवाही आज अधूरी रही। सज्जन कुमार के अलावा ब्रह्मानंद गुप्ता, पेरू और वेदप्रकाश भी सिख विरोधी दंगे के दौरान सुलतानपुरी में सुरजीत सिंह की हत्या के सिलसिले में हत्या एवं दंगे को लेकर सुनवाई का सामना कर रहे हैं।

सीबीआई के अनुसार दिल्ली सरकार के अभियोजन विभाग ने सज्जन कुमार के खिलाफ मुकदमा नहीं चलाने की राय दी थी जिसके बाद यह मामला उपराज्यपाल के पास भेजा गया था। उपराज्यपाल ने इसे अभियोजन के लिए उपयुक्त मामला बताया। उल्लेखनीय है कि 31 अक्तूबर, 1984 को प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद दिल्ली में बड़े पैमाने पर सिख विरोधी दंगा फैल गया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You