शहीद सुधाकर की विधवा से किया वायदा नही हुआ पूरा

  • शहीद सुधाकर की विधवा से किया वायदा नही हुआ पूरा
You Are HereNational
Friday, January 10, 2014-9:44 PM

भोपाल: मध्यप्रदेश के सीधी जिले के एक छोटे से गांव डडिया के शहीद लांस नायक सुधाकर सिंह बघेल की विधवा श्रीमती दुर्गा से किए गए सहायता के वायदे को केन्द्र सरकार आज तक पूरा नहीं कर सकी हैं। डांडिया के इस वीर जवान ने सीमा की रक्षा के दौरान पिछले साल अपने प्राण न्योछावर कर दिए थे। श्रीमती दुर्गा ने दूरभाष पर (यूनीवार्ता) को बताया कि पिछले एक साल में उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी, रक्षा राज्य मंत्री जीतेन्द्र सिंह, थल सेना अध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह और लोकसभा में विपक्ष के नेता सुषमा स्वराज को चिट्ठियां लिखीं, लेकिन उनके द्वारा कोई पहल नहीं की गई।

लांस नायक सिंह राजपुताना राइफल्स रेजीमेंट के 13 वीं वाहिनी के सिपाही थे। पिछले साल आठ जनवरी को उनके गश्ती दल पर पाकिस्तानी सेना की बार्डर एक्शन टीम ने घात लगाकर हमला किया। यह हमला भारतीय सीमा के करीब छ: सौ मीटर भीतर छतरी और आत्मा चौकियों के बीच मानकोट क्षेत्र में हुआ था। मानकोट जम्मू काश्मीर राज्य के कृष्णा घाटी में स्थित है।

हमलें में लॉंस नायक सिंह के साथी लांस नायक हेमराज का धड से अलग कर दिया गया। इस विभत्स घटना का उल्लेख राष्ट्रीय अखबारों में हुआ था। श्रीमती दुर्गा के अनुसार केन्द्र सरकार ने वचन दिया था कि एक गैस एजेंसी का लाइसेंस उनके नाम किया जाएगा। जीतेन्द्र सिंह उनके निवास पर भी आए और आश्वासन दिया कि लांस नायक सिंह को मरणोंपरांत वीरता पदक देने के संबंध में विचार किया जाएगा लेकिन अफसोस है कि आगे कोई कार्यवाही नहीं हुई। सिपाही की विधवा कहती है कि यदि सरकार एक शहीद के परिवार को सहायता नहीं दे सकती तो किसको सहायता देगी।

सेवानिवृत्त मेजर जनरल ए.जे.बी.जैनी ने दूरभाष पर (यूनीवार्ता) को बताया कि कोई भी ऐसे प्रकरण का सेना द्वारा सहानुभूतिपूर्वक निष्पादन किया जाता है। उन्होंने आश्वासन दिया कि यदि इस प्रकरण की समस्त जानकारी इंडियन एक्स सर्विसमैन मूवमेंट के समक्ष रखी जाए तो संबंधित अधिकारियों से चर्चा की जाएगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You